नोएडा खबर

खबर सच के साथ

ब्रेकिंग न्यूज़ : नोएडा प्राधिकरण ने एम्स मैक्स गार्डेनिया डिवेलपर्स के सेक्टर 75 व 46 के प्रोजेक्ट को लेकर उठाया कड़ा कदम, देना होगा ब्याज समेत समस्त बकाया, सील होगी प्रॉपर्टी

1 min read

नोएडा, 5 जून।

लिगेसी स्टाल्ड रियल एस्टेट प्रोजेक्टस की समस्याओं के निदान के लिये उत्तर प्रदेश शासन द्वारा निर्गत शासनादेश दिनांक 21.12.2023 के द्वारा नीति/पैकेज निर्धारित किया गया है, जिसका मुख्य लक्ष्य बिल्डर द्वारा प्राधिकरण की देयताओं का भुगतान करते हुए होम बायर्स को रजिस्ट्री के साथ घर/फ्लैट यथाशीघ्र उपलब्ध कराया जा सके। इसी कम में नौएडा प्राधिकरण द्वारा ऐसे बिल्डर्स को चिन्हित कर प्राधिकरण की देयता की कुल देय धनराशि 25 प्रतिशत धनराशि जमा कराते हुए फ्लैट बायर्स के पक्ष में रजिस्ट्रियों कराये जाने की कार्यवाही की जा रही है।

ग्रुप हाउसिंग भूखण्ड संख्या ईको सिटी, सैक्टर-75, नौएडा के आवंटी मैसर्स एम्स मैक्स गार्डेनिया डेवलपर्स प्रा०लि० एवं ग्रुप हाउसिंग भूखण्ड संख्या जीएच-1, सैक्टर-46, नौएडा के आवंटी मैसर्स गार्डेनिया एम्स डेवलपर्स प्रा०लि० नौएडा प्राधिकरण के बड़े बकायेदार हैं, इनके द्वारा नौएडा प्राधिकरण से 600000+51700 कुल 651700 वर्गमीटर भूमि ली गयी है परन्तु इनके द्वारा प्रीमियम एवं अन्य बकायों का समय-समय पर भुगतान नहीं किया गया, जिसके फलस्वरूप इनके विरूद्ध प्राधिकरण की दिनांक 31.12.2023 तक आगणित धनराशि कमशः रू0 1717.29 करोड़ एवं रू0 692.48 करोड़ बकाया है।

उक्त दोनों आवंटियों द्वारा शासनादेश दिनांक 21.12.2023 के द्वारा उपलब्ध कराये गये रिलीफ पैकेज को स्वीकार करने हेतु सहमति दी गयी परन्तु कुल देय धनराशि का 25 प्रतिशत की धनराशि जमा नहीं की गयी, जिसके फलस्वरूप शासनादेश दिनांक 21.12.2023 में किये गये प्राविधानों के तहत उक्त दोनों बकायेदारों के विरूद्ध नौएडा प्राधिकरण द्वारा निम्नानुसार कार्यवाही किये जाने का निर्णय लिया गया है:-

1 (क). मैसर्स एम्स मैक्स गार्डेनिया प्रा० लि० को आंवटित भूखण्ड संख्या जीएच-इको सिटी, सैक्टर-75 के ऊपर  31.12.2023 तक कुल बकाया राशि रू0 1717.29 करोड़ पर शासनादेश दिनांक 21.12. 2023 द्वारा अनुमन्य रिलीफ अब इस परियोजना को उपलब्ध नहीं होगा और आवंटी को दिनांक 31.12. 2023 तक देय रू0 1717.29 करोड़ की आगणित समस्त धनराशि को अद्यतन ब्याज सहित प्राधिकरण में जमा करना होगा।

(ख). मैसर्स गार्डेनिया एम्स डेवलपर्स प्रा० लि० को आंवटित भूखण्ड संख्या जीएच-01, सैक्टर-46 के ऊपर 31.12.2023 तक कुल बकाया राशि रू0 692.48 करोड़ पर शासनादेश दिनांक 21.12.2023 में अनुमन्य रिलीफ अब इस परियोजना को उपलब्ध नहीं होगा और आवंटी को दिनांक 31.12.2023 तक देय रू0 692.48 करोड़ की आगणित बकाया धनराशि को अद्यतन ब्याज सहित प्राधिकरण में जमा कराना होगा।

मैसर्स एम्स मैक्स गार्डेनिया डेवलपर्स प्रा०लि० को जीएच-इको सिटी, सैक्टर-75 में आंवटित 6,00,000 वर्गमीटर में से 60,000 वर्ग मीटर के वाणिज्यिक भूखण्ड की लीज निरस्त करते हुए इस पर विकसित की गयी वाणिज्यिक सम्पत्ति ब्लॉक ए, बी, सी एवं डी को अटैच किये जाने का निर्णय लिया गया है।

प्राधिकरण इस परिसम्पत्ति को नीलामी के माध्यम से विक्रय की कार्यवाही करते हुए अपनी धनराशि की वसूली करेगा। उक्त अटैच की जा रही परिसम्पत्ति के सम्बन्ध में प्राधिकरण द्वारा अटैचमेन्ट से सम्बन्धित सूचना का नोटिस भी उचित स्थान पर प्रदर्शित किया जायेगा तथा इसका प्रकाशन अखबार में भी किया जायेगा। लीज निरस्तीकरण एवं अटैच की जा रही सम्पत्ति पर इस आदेश के दिनांक (05. 06.2024 तक) जो भी तृतीय पक्ष के अधिकार सृजित किये गये हैं, उनको नए डेवलपर द्वारा ऑनर किया जायेगा। तृतीय पक्ष के अधिकार का सबूत आदेश की तिथि तक हुए बैंक ट्रांजैक्शन होंगे। आदेश की तिथि तक मौके पर आवंटित दुकानें / प्रतिष्ठान यथावत् कार्य करेंगे। मौके की स्थिति के अनुसार तदानुसार सीलिंग की कार्यवाही प्राधिकरण द्वारा की जायेगी।

इस कन्सोरसियम से सम्बन्धित सदस्यों को बकाया की वसूली होने तक किसी भी योजना के अन्तर्गत कोई भी भूखण्ड आंवटित नहीं किया जायेगा।

मैसर्स गार्डेनिया एम्स डेवलपर्स प्रा०लि० की ग्रुप हाउसिंग भूखण्ड संख्या जीएच-1, सैक्टर-46, नौएडा की परियोजना, जिस पर रू0 692.48 करोड़ का बकाया है और जिसमें 122 फ्लैटस पूर्व से ही सील हैं, उनकी नीलामी करते हुए ड्यूज की रिकवरी की कार्यवाही की जायेगी।

इन परियोजनाओं में रूकी हुई समस्त 3379 फ्‌लैट बायर्स के पक्ष में नियमानुसार रजिस्ट्री की कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी।

 

 15,333 total views,  322 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.