नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने महिलाओं के सशक्तिकरण अभियान को दी रफ्तार

1 min read

-उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल का महिला सशक्तिकरण को लेकर जिला गौतमबुद्धनगर में गहन कार्यक्रम।

-महिलाओं को सशक्त बनाने एवं उन्हें आर्थिक गतिविधियों के साथ जोड़ने के उद्देश्य से जनपद में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का पदार्पण।

-जिला प्रशासन एवं ए.के.टी.यू. विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में एमेटी विश्वविद्यालय व ए0के0टी0यू0 में राज्यपाल उत्तर प्रदेश श्रीमती आनंदीबेन पटेल की अध्यक्षता में भव्य कार्यक्रम आयोजित

-जनपद के आंगनवाड़ी केंद्रों को सुविधा संपन्न बनाने उद्देश्य से किटों का किया गया वितरण, गर्भवती महिलाओं की गयी गोद भराई।

-स्वयं सहायता समूह के माध्यम से महिलाओं को सशक्त बनाने एवं उनके आर्थिक विकास के उद्देश्य से समूह को आर्थिक मदद के चेक किए गए वितरण।

-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का लाभ पात्र लाभार्थियों को पहुंचाने के उद्देश्य से पात्र लाभार्थियों को गोल्डन कार्डों का किया गया वितरण।

-टीबी उन्मूलन कार्यक्रम में सहयोग प्रदान कर रही संस्थाओं के प्रतिनिधियों को किया गया सम्मान प्रशस्ति पत्र वितरण।

-आंगनबाड़ी केंद्रों को सुविधा संपन्न बनाने में सहयोग प्रदान करने वाले इंजीनियरिंग कॉलेजों के प्रतिनिधियों को प्रशस्ति पत्र प्रदान करते हुए किया गया सम्मान।

-जिला कारागार की महिला कैदियों को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से एयर कूलर, इन्डक्सन, गीजर, म्यूजिक सिस्टम एवं स्किल डेवलपमेंट करने के उद्देश्य से कंप्यूटर सेट तथा महिला कैदियों के बच्चों को वस्त्र तथा खिलौने राजभवन निधि के माध्यम से किए गए वितरण।

-वृद्धाश्रम में निवासरत वृद्ध संवासियां को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से रेफ्रीजरेटर, आर0ओ0 मशीन, वाशिंग मशीन, सीलिंग फैन एवं एल0ई0डी0 राजभवन निधि के माध्यम से कराई गई उपलब्ध।

गौतम बुद्धनगर 18 अक्टूबर।

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को महिला सशक्तिकरण, महिलाओं के उत्थान एवं विकास की मुख्यधारा से जोड़ने के उद्देश्य से आज गौतमबुद्धनगर जिले का सघन भ्रमण करते हुए विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। अपने भ्रमण के दौरान राज्यपाल सर्वप्रथम एमेटी विश्वविद्यालय नोएडा में पहुंची जहां पर उन्होंने एमेटी के सभागार में जनपद के आंगनवाड़ी केंद्रों को सुदृढ़ बनाने एवं सुविधा संपन्न बनाने के उद्देश्य से 306 आंगनवाड़ी केंद्रों को किट का वितरण किया गया। यहां पर उन्होंने गर्भवती महिलाओं की गोद भराई भी करायी। राज्यपाल की प्रेरणा से जिला प्रशासन एवं एकेटीयू विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में आज यह कार्यक्रम आयोजित किया गया।

राज्यपाल की प्रेरणा से इंजीनियर कॉलेज आंगनवाड़ी केंद्रों को सुविधा संपन्न बनाने के लिए आगे आकर कार्यवाही कर रहे हैं। राज्यपाल की प्रेरणा से एकेटीयू के द्वारा 30 आगनवाड़ी केन्द्र चौधरी चरण यूनिर्वसिटी के सौजन्य से 51, अम्बुजा सीमेंट से 100 एवं एचसीएल फाउडेंशन के द्वारा 125 आंगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लिया गया है, जिसमें सभी संस्थाओं द्वारा सम्बन्धित आंगनबाड़ी केंद्रों को सुविधा सम्पन्न बनाया जाएगा। इस अवसर पर माननीय राज्यपाल के कर कमल द्वारा जेल में महिलाओं कैदियों को सशक्त बनाने एवं सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से महिला बैरक में लगाने के लिए 01 सेनेटरी नेपकिन वेंडिंग मशीन व 01 इन्सिनिरेटर मशीन, 01 एयर कूलर, 01 इन्डक्सन, 01 गीजर, 01 म्यूजिक सिस्टम एवं महिलाओं के स्किल डेवलपमेंट करने के उद्देश्य से 9 कंप्यूटर सेट तथा महिलाओं कैदियों के लिए बच्चों को कपड़े एवं खिलौने, जिनकी कुल लागत 2 लाख 67 हजार 901 रूपये राजभवन निधि के माध्यम से जेल अधीक्षक को उपलब्ध करायें गयें। उन्होंने इस अवसर पर अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि जो महिलाएं किसी कारण बस जेल में प्रवास कर रही हैं और जब वह यहां से मुक्त होकर घर जाएंगी तो वह शांति पूर्वक जीवन की सीख लेकर जाएं तथा अपने आगे के जीवन को शांतिप्रिय रूप से मनाएं तथा अपने घर एवं परिवार के विकास के लिए विशेष योगदान दें। इस अवसर पर उन्होंने वृद्धाश्रम में निवासरत वृद्ध संवासियांे को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से 02 रेंफ्रीजरेटर, 02 आर0ओ0 मशीन, 02 वाशिंग मशीन, 10 सीलिंग फैन, 02 इन्वर्टर, 04 स्ट्रीट लाइट एवं 01 एल0ई0डी0 टेलीविजन, जिनकी कुल लागत 3 लाख 41 हजार रूपये राजभवन निधि के माध्यम से जिला समाल कल्याण अधिकारी को उपलब्ध कराई गयी।
एकेटीयू के सभागर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान मा0 राज्यपाल उत्तर प्रदेश ने स्वयं सहायता समूह के माध्यम से महिलाओं के आर्थिक विकास के सम्बन्ध में जानकारी करते हुये पाया कि वर्तमान तक जनपद में 1222 स्वयं सहायता समूह को वित्तीय सहायता प्रदान की गई, जिसमें से 697 से ज्यादा समूहों को स्टार्टप दिया गया और 1034 स्वयं सहायता समूह को रिवाल्विंग फंड दिया गया। साथ ही 589 स्वयं सहायता समूह को सीआईएफ दिया गया। उन्होंने बताया कि रिवाल्विंग फंड के अंतर्गत प्रत्येक समूह को ₹15 हजार, सीआईएफ के अंतर्गत ₹01 लाख 10 हजार की धनराशि प्रदान की जाती है। राज्यपाल द्वारा इस अवसर पर 2 महिला स्वयं सहायता समूह को 1-1 लाख रूपये की धनराशि सी0सी0एल0 के रूप में उपलब्ध करायी गयी। इस अवसर पर उन्होंने आयुष्मान भारत के अन्र्तगत 6 पात्र लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड वितरण, एक जनपद एक उत्पाद योजना में 2 लाभार्थियों को अनुदान के चैक वितरण, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के 03 लाभार्थियों, शादी अनुदान के 04 लाभार्थियों तथा श्रम विभाग की योजनाओं के 04 लाभार्थियों को सम्बन्धित योजनाओं के तहत निर्धारित धनराशि के चैक भी वितरण किये। टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के तहत जिन संस्थाओं के द्वारा आगे आकर कार्य किया गया है और टीबी के मरीजों को चिन्हित करने व उन्हें इलाज संभव कराने में स्वास्थ्य विभाग का सहयोग प्रदान किया गया है, ऐसी 2 संस्थाओं को प्रशस्ति पत्र देकर माननीय राज्यपाल के द्वारा सम्मानित किया गया। माननीय राज्यपाल के कर कमलों द्वारा एकेटीयू एवं चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से सम्बन्धित जिन कॉलेजों के द्वारा आंगनवाड़ी केंद्रों के सफल संचालन के उद्देश्य से किट उपलब्ध कराई गई हैं और पोषण मिशन कार्यक्रम में निरंतर सहयोग प्रदान किया जा रहा है सभी संस्थाओं के संचालकों को प्रशस्ति पत्र प्रदान करते हुए सम्मानित भी किया गया।
राज्यपाल ने आयोजित कार्यक्रम के दौरान अपने उद्बोधन में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को यशोदा मईया की संज्ञा प्रदान करते हुये कहा कि सभी आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के द्वारा देश के भावी भविष्य को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निर्वहन की जा रही है, जो छोटे बच्चें आंगनबाड़ी केन्द्रों पर आ रहे वो भारत का कल का भविष्य है। अतः सभी आंगनबाड़ी कार्यकत्री इस मंशा के अनुरूप अपने अपने केंद्रों छोटे बच्चो को इस मनोदशा के साथ शिक्षा एवं संस्कार प्रदान करंे। उन्होंने कहा कि नारी शक्ति देश को विश्वगुरू बनाने में अपना अहम योगदान प्रदान कर सकती है और उन्ही के योगदान से यह देश विश्वगुरू बनेगा। उन्हांने यहाॅ पर यह भी कहा कि जिला प्रशासन को आगे आकर जनपद के सभी 1108 आंगनबाड़ी केन्द्रांे को सामाजिक सरोकार के माध्यम से सुविधा सम्पन्न बनाने की दिशा में कदम उठाना चाहिये, ताकि जनपद गौतमबुद्धनगर इस कार्य में प्रदेश में अग्रणीय स्थान प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि महिलाओं को स्वावलंबी बनाने एवं उनके आर्थिक उन्नति के उद्देश्य से महिला स्वयं सहायता समूह सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है, जिसके माध्यम से महिलाओं का निरंतर विकास संभव हो रहा है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि महिला स्वयं सहायता समूह महिलाओं के उत्थान के लिए मील का पत्थर साबित हो रही है। उन्होंने इस अवसर पर सामाजिक कुरीतियों को मिटाने में महिलाओं की शक्ति का जिक्र करते हुए कहा कि दहेज प्रथा एवं बाल विवाह जैसी कुरीतियों को मिटाने में महिलाओं का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है और इसके लिए उन्हें आगे आकर कार्य करना चाहिए ताकि समाज से दहेज प्रथा एवं बाल विवाह जैसी कुरीतियां समाप्त हो सके। उन्होंने इस अवसर पर सभी महिलाओं का यह भी आह्वान किया कि सभी महिलाएं अपने बच्चों को पढ़ाने की दिशा में विशेष ध्यान दें और बालिकाओं को पढ़ाने के लिए सभी महिलाएं विशेष प्रयास सुनिश्चित करें ताकि महिला सशक्तिकरण और अधिक तेजी से आगे बढ़ सके।*
*माननीय राज्यपाल ने जिलाधिकारी का आहवान करते हुये कहा कि जनपद के सभी आई0ए0एस0 एवं आई0पी0एस0 अधिकारीगण टी0बी0 से संक्रमित बच्चांे को गोद लेकर उन्हें स्वस्थ बनाने की दिशा विशेष प्रयास सुनिश्चित किये जा सकते है साथ ही रेडक्रास के माध्यम से टी0बी0 से संक्रमित बच्चों को गोद लेकर उनको स्वस्थ बनाने का कार्य भी किया जा सकता है। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने माननीय राज्यपाल को आश्वस्त किया कि उनकी प्रेरणा से इस कार्यक्रम को प्रमुखता के साथ जनपद में संचालित किया जायंेगा साथ ही माननीय राज्यपाल जी की मंशा के अनुरूप जनपद के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रांे को अभियान चलाकर सामाजिक सरोकार के माध्यम से सुविधा सम्पन्न बनाया जायेंगा। माननीय राज्यपाल महोदय के कार्यक्रम के दौरान माननीय सांसद डाॅ महेश शर्मा, एकेटीयू के कुलपति प्रोफेसर विनीत कंसल, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ के कुलपति प्रोफेसर नरेंद्र कुमार तनेजा के द्वारा अपने उद्गार व्यक्त करते हुये कहा कि माननीय राज्यपाल महोदया जी की मंशा के अनुरूप सामाजिक सरोकार के माध्यम से नारी शक्ति को स्वाबलंबी बनाने एवं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में निरन्तर स्तर पर प्रयास सुनिश्चित किये जायेंगे। कार्यक्रम मंें जिलाधिकारी सुहास एल0वाई0 के द्वारा अपने उद्गार व्यक्त करते हुये माननीय राज्यपाल जी एवं अन्य अतिथियांे को स्वागत किया गया। मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने कार्यक्रम के समापन अवसर पर सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया।*
*कार्यक्रम का सफल संचालन करते हुयें माननीय राज्यपाल जी के जीवन परिचय पर जिला समाज कल्याण अधिकारी शैलेन्द्र बहादुर सिंह ने विस्तारपरक रूप से प्रकाश डाला।*
*कार्यक्रम अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष अमित चौधरी, पुलिस आयुक्त आलोक सिंह, डी0सी0पी0 पुलिस नोएडा जोन राजेश एस0, एमेटी विश्वविद्यालय की उपकुलपति बलविन्दर शुक्ला, अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिवाकर सिंह, नगर मजिस्ट्रेट गजेन्द्र सिंह, उपजिलाधिकारी सदर अंकित कुमार, दादरी अमित कुमार गुप्ता, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ सुनील कुमार शर्मा, जिला विकास अधिकारी गरिमा खरै, जिला पंचायत राज अधिकारी कुंवर सिंह यादव, डी0एस0टी0ओ0 हेमन्त कुमार, जिला प्रबोशन अधिकारी अतुल कुमार सोनी, अन्य विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहे। कार्यक्रम को संकुशल संपन्न कराने में जिला प्रशासन एवं पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

 18,802 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.