नोएडा खबर

खबर सच के साथ

गौतमबुद्धनगर में पुलिस कमिश्नरेट के दो साल, सिटिज़न फ्रेंडली पुलिस बनाने का लक्ष्य, अपराधियों की 148 करोड़ की संपत्ति कराई जब्त

1 min read

गौतमबुद्धनगर, 15 जनवरी।

गौतमबुद्धनगर में पुलिस कमिश्नरेट स्थापना के लगभग 02 वर्ष की समाप्ति पर पुलिसिंग व्यवस्था में विशेष सुदृढीकरण हुआ है। विगत वर्ष में पुलिस की विभिन्न उपलब्धियां रही हैं एवं आने वाले वर्ष के लिये विभिन्न प्राथमिकताऐं चिन्हित की गई हैं। अपराधियों की 148 करोड़ की संपत्ति जब्त की गई।

कानून व्यवस्था, वीआईपी बंदोबस्त, अपराध नियन्त्रण एवं कम्यूनिटी पुलिसिंग के क्षेत्र में कमिश्नरेट पुलिस को विभिन्न उपलब्धियां प्राप्त हुई। कानून व्यवस्था के क्षेत्र में मुख्य रूप से लम्बे समय तक चलने वाले किसान धरनों एवं आंदोलनों को कमिश्नरेट पुलिस द्वारा पूरी दक्षता एवं संयम के साथ शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराया गया।

बीते माह में किसानों द्वारा अपनी निजी मांगों को लेकर लगातार नोएडा प्राधिकरण पर धरना प्रदर्शन किया जा रहा था जिसके कारण यातायात, कानून व्यवस्था वह आमजन की परेशानी के दृष्टिगत नोएडा पुलिस लगातार सक्रिय रही, जिससे कानून व्यवस्था एवं यातायात व्यवस्था को बिगड़ने नहीं दिया।

इन धरना प्रदर्शनों के कारण कई तरह की परेशानियां जैसे यातायात व्यवधान, प्राधिकरण में आमजन के कार्य में बाधा, आसपास के कारखानों के वर्कर और माल को कम्पनियों तक पहुंचने की समस्या आदि सामने आई, लेकिन पुलिस बल की मुस्तैदी व वरिष्ठ अधिकारियों की समझबूझ से इन सभी समस्याओं का समाधान हुआ। उचित महिला पुलिस बल की उपस्थिति से महिला प्रदर्शनकारियों को सम्भालने में मदद मिली, पीएसी व आरआरएफ के जवानों को प्राधिकरण के गेट पर तैनात किया गया ताकि अनावश्यक प्रवेश को रोका जा सके, सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस बलको विधायक व सांसद कार्यालय / आवास पर तैनात किया गया।

इस दौरान आसपास के सहायक पुलिस बल करीब 1000 से अधिक समय-समय पर वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा धरना स्थल पर पहुंचकर किसानों से वार्ता कर उनकी समस्याओं को प्राधिकरण के समक्ष रखने लिए समझाया और प्रदर्शन को समाप्त की अपील भी किये और किसान एवं प्राधिकरण के बीच समन्वय स्थापित कराने में भूमिका निभाई गई।

विगत वर्ष का सबसे महत्वपूर्ण जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास कार्यक्रम रहा जिसमें प्रधानमंत्री द्वारा प्रतिभाग किया गया। इस मौके पर पुलिस आयुक्त, गौतमबुद्धनगर द्वारा सम्पूर्ण सुरक्षा व्यवस्था से पर्यवेक्षण किया गया एवं पुलिस आयुक्त महोदय के निर्देशन अन्य पुलिस अधिकारियों तथा नियुक्त पुलिस बल कार्यक्रम तरीके से कराया गया।

अपराध नियन्त्रण एवं अपराध के खुलासे पर कमिश्नरेट का मुख्य बल रहा है। कमिश्नरेट द्वारा विभिन्न प्रकरणों का समयबद्ध खुलासा किया गया है, जिनमें उदाहरण स्वरूप किसलेय में सोने एवं अन्य अवैध सम्पत्ति की अत्यधिक मात्रा में बरामदगी की,

अपराध नियन्त्रणः कई जनपदों में सक्रिय सॉल्वर गैंग्स का पर्दाफास किया गया, वाहन चोरी में सक्रिय कबूतर गैंग पकड़ा गया, जनपद वासियों को गाडियों के शीशें तोडकर लैपटॉप आदि चुराने वाले ठक-ठक गैंग को सफलतापूर्वक पकड़ा गया एवं बडी संख्या में उनसे बरामदगी की गई। बादलपुर में युवती के झूठे अपहरण केस 24 घण्टे के अन्दर खुलासा किया गया।

वर्ष 2020 में लम्बे समय तक सम्पूर्ण लॉकडाउन चलने के अपराध के आकड़ों में काफी कमी थी। वर्ष 2021 में लॉकडाउन समाप्ति के उपरान्त अपराध के आंकड़ों में बढोत्तरी हुयी है, परन्तु कमिश्नरेट लागू होने से पूर्व के अपराध आंकडों की तुलना में प्रभावी कमी आई आयी है। गौतमबुद्धनगर में गैंगस्टर्स अधिनियम के अन्तर्गत संगठित अपराधियों एवं उनके गिरोहों के विरूद्ध व्यापक स्तर पर कार्यवाही सुनिश्चित करते हुये उनकी लगभग 148 करोड की सम्पत्ति को जब्त की गई है। इससे उनकी आर्थिक रीढ़ को प्रभावी रूप से तोड़ने का सघन प्रयास निरन्तर जारी है।
थाना कासना के मु०अ०सं० 10/15 धारा 302,147, 148, 149,307, 120बी भादवि में दिनाँक 05.04.2021 को सुन्दर भाटी सहित कुल 12 अभियुक्तगण को मा० न्यायालय द्वारा आजीवन कारवास की सजा व प्रत्येक अभियुक्त पर 01 लाख 80 हजार रूपये कुल 21 लाख 60 हजार रूपये के जुर्माने से दण्डित किया गया है।
डायल 112 का रिस्पोन्स टाईम प्रदेश में सर्वश्रेष्ठः

यू०पी०- 112 के रेस्पान्स टाईम में कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर द्वारा लगातार छूढयी बार प्रथम स्थान प्राप्त किया गया। माह दिसम्बर में कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर द्वारा कुल प्राप्त 12006 इवेंट का औसत रेस्पोन्स टाईम नगरीय क्षेत्र के लिये 06 मिनट 09 सेकंड व देहात के लिये 07 मिनट 58 सेकंड (कुल औसत समय 07 मिनट 29 सेकंड) रहा है। वर्ष 2021 में कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर द्वारा कुल 31 बार “पीआरवी ऑफ द डे’ का खिताब प्राप्त किया गया है। पुलिस कमिश्नर गौतमबुद्धनगर के निर्देशन में कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर पुलिस द्वारा ऐसे ही त्वरित सहायता प्रदान करने का प्रयास लगातार जारी रहेगा।

यातायात पुलिस:

1. यातायात पुलिस द्वारा निरन्तर रियल टाईम मैनेजमैन्ट सफल रूप से सम्पन्न किया गया, जिसके अन्तर्गत ट्रैफिक कन्ट्रोल रूम, सोशल मीडिया एवं अन्य स्त्रोतों से प्राप्त सूचना के आधार पर लम्बे समय तक कही भी जाम की स्थिति उत्पन्न नहीं होने दी एवं समयबद्ध रूप से समस्यानुसार ट्रैफिक बल नियुक्त करते हुए जाम खुलवाये गये।

2. गौतमबुद्धनगर में विभिन्न स्थानों पर रोड निर्माण कार्य प्रगति पर है, मुख्य रूप से भंगेल एलीवेटिड रोड एवं पर्थला फ्लाई ब्रिज इन सभी स्थानों पर प्रभावी रूप से ट्रैफिक डाइवर्जन एवं मैनेजमेन्ट किया गया ताकि जनपद वासियों को कम से कम असुविधा का सामना करना पडे ।

3. यातायात पुलिस की रोड सेफ्टी सैल द्वारा कार्यक्रम रूपरेखा तैयार कर सेमिनार, पाठशाला, गोष्ठी, कार्यशाला, नुक्कड़ नाटक आदि का आयोजन कर स्कूल-कालेजों, आर0डब्लू०ए० पदाधिकारियों, विभिन्न एन0जी0ओ0 आमजन एवं वाहन चालकों को यातायात नियमों का पालन करने हेतु जागरूक किया गया

4. दुर्घटना बाहुल्य क्षेत्र में सुधार, मार्गों पर अवैध कट बन्द कराना, ऐसे मार्ग जहां डिवाइडर नहीं है वहां पर पीली व सफेद पटटी बनवाना, सड़क के दोनों ओर सफेद पटटी डलवाया जाना, पार्किंग व्यवस्था हेतु नो-पार्किंग, वेन्डिंग तथा नो वेन्डिंग जोन सम्बन्धित बोर्ड लगवाये जाने का कार्य सम्बन्धित से समन्वय स्थापित कर कराया गया।

5. मानव अंग प्रत्यारोपण किये जाने के सम्बन्ध में विभिन्न अस्पतालों से सूचना प्राप्त होने पर ग्रीन कॉरीडोर बनाकर जनपद से दिल्ली राज्य सीमा तक कम से कम समय में पहुंचाया जाता है।

6. कोरोना काल के दौरान विशेष कॉरीडोर विभिन्न अस्पतालों से सूचना प्राप्त होने पर ऑक्सीजन टेंकर / सिलेण्डर वाहनों को सम्बन्धित से समन्वय स्थापित कर कम से कम समय में गन्तव्य तक पहुंचाया गया।

7. माननीय एनजीटी के निर्देशों के क्रम में पर्यावरण सुरक्षा हेतु गोष्ठी, कार्यशाला, पाठशाला आदि का आयोजन कर धुंआ जनित वाहनों (प्रदूषण फैलाने वाले वाहन) के स्थान पर सीएनजी / इलेक्ट्रिक वाहनों का प्रयोग किये जाने हेतु जागरूक किया गया।

8. अभियान चलाकर प्रदूषण फैलाने वाले 10 व 15 वर्ष पुराने वाहनों के विरूद्ध प्रवर्तन की कार्यवाही की जा रही है। जनवरी 2021 से दिसम्बर 2021 तक 17 डीजल वाहन एवं 408 पैट्रोल वाहनों के विरूद्ध सीज की कार्यवाही की गयी है।

9. अभियान चलाकर मॉडीफाइड साइलेन्सर का प्रयोग कर ध्वनि प्रदूषण करने वाले वाहनों के विरूद्ध प्रवर्तन की कार्यवाही की जा रही है। सितम्बर 2021 से दिसम्बर 2021 तक कुल 187 वाहनों के विरूद्ध सीज की कार्यवाही की गयी है।

10. हैप्पी टू हैल्प डेस्क द्वारा ई-चालान का त्वरित निस्तारण तथा मौके पर ही समस्या का समाधान किया गया।
11. Traffic Conrol Room 24X7 कार्यरत रहकर रेडियो सेट/ मोबाइल फोन, व्हाटसएप के

माध्यम से सूचानाओं का आदान-प्रदान व कार्यवाही की गई।

12. Traffic Conrol Room में नियुक्त कर्मियों द्वारा Google Map के माध्यम से यातायात दबाव एवं जाम की स्थिति पर नजर रखकर त्वरित कार्यवाही की गई।

13 Traffic Conrol Room में नियुक्त कर्मियों द्वारा विभिन्न स्टैक धारकों जैसे आर0डब्लू०९०, एन०जी०ओ०, पत्रकार, वालिन्टियर से लगातार Feedback प्राप्त कर यातायात व्यवस्था सुदृढ़ की गई।

पुलिस इन्फस्ट्रक्चर

गौतमबुद्धनगर पुलिस कमिश्नरेट पुलिस आयुक्त महोदय के कुशल नेतृत्व एवं भरसक प्रयास के फलस्वरूप 10 नये थानों के प्रस्ताव पर शासन से स्वीकृति प्राप्त हुई, जिससे वर्तमान में स्थापित थानों के क्षेत्र को कम किया जा सके तथा पुलिस-पब्लिक रेशो सुधार किया जा सके एवं जनपदवासियों तक और निकटता से पहुंचकर उनको प्रभावी पुलिस सेवाएं प्रदान की जा सके। इन 10 थानों में 05 थानों को पूर्व से स्थापति चौकियों में कियाशील कर दिया गया है एवं इनके नये भवनों का निर्माण कार्य जल्द ही आरम्भ किया जायेगा। अब तक कियाशील किये गये थानों का विवरण निम्नवत् है:

1. थाना फेस-1
2. थाना सैक्टर-126
3. थाना सैक्टर-113

4. थाना सैक्टर-63

15. थाना सैक्टर-142 इसके अतिरिक्त पुलिस लाईन्स गौतमबुद्धनगर में विभिन्न निर्माण कार्य समयबद्ध रूप से सम्पन्न कराये गये, जिनका विवरण निम्नवत् है:

1. पुलिस लाईन्स में स्थित एक प्राकृतिक तालाब जिसमें सीवरेज का समस्त पानी जमा हो जाता था एवं बेहद गन्दगी का केन्द्र बन गया था। उसको एचसीएल फाउण्डेशन के सहयोग से वाटर प्यूरिफायर स्थापित करते हुए एक अद्र भूमि के रूप में विकसित किया गया, जिससे पुलिस लाईन्स के पर्यावरण में काफी बदलाव हुआ एवं अब यह विभिन्न प्रकार के पक्षियों के आने का केन्द्र बन गया है।
2. पुलिस लाईन्स में पुलिस कर्मियों एवं पुलिस परिवारों के स्वास्थ्य को दृष्टिगत रखते हुए

इन्डोर एवं आउट डोर जिम्स को संचालित किया जा रहा है, जिसको पुलिस कर्मी एवं पुलिस

परिवार उपयोग में लाते हैं।

3. हाल ही में महिला पुलिस कमियों के लिये एक नवनिर्माणित महिला पुलिस बैरिक का उद्घाटन पुलिस आयुक्त महोदय द्वारा किया गया। तीनों जोन्स नोएडा, सैन्ट्रल नोएडा एवं ग्रेटर नोएडा द्वारा अपराध नियन्त्रण एवं अपराध के खुलासे पर विशेष सफलताऐं प्राप्त की, जिनमें से मुख्य उपलब्धियों का विवरण निम्नवत् है:

महिला सुरक्षा:

पिछले 02 वर्ष में गौतमबुद्धनगर में मुख्य रूप से महिला सम्बन्धी अपराधों के प्रकरणों में सजा कराने का कार्य प्रभावी पैरवी कराते हुये निरन्तर जारी रहा, जिसके परिणाम स्वरूप मा० न्यायालयों एवं गुण्डा न्यायालय में 75 प्रकरणों में सजा कराई जा चुकी है।

इसके अतिरिक्त महिला थाना का भवन जो काफी खराब अवस्था में था, उसका पूर्ण रूप से नवीनीकरण / नवकरण कराया गया ताकि वहां आने वाले शिकायतकर्ताओं को अनुकूल वातावरण

प्राप्त कराया जा सके।

विगत वर्ष की एक विशेष उपलब्धि महिला बीट प्रणाली का आरम्भ भी रहा है, जिसके तहत समस्त ग्रामीण क्षेत्रों को 127 बीटों में विभाजित किया गया है। जहां पर प्रत्येक सप्ताह सम्बन्धित थानें से महिला पुलिस बीट अधिकारी महिलाओं के बीच जाकर उनके विरूद्ध घट सकने वाले अपराधों के लिए सचेत करती हैं एवं उन्हें इन अपराधों के प्रति आवज उठाने के लिये प्रोत्साहित करती है। बीट अधिकारी ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं का पुलिस तक पहुंचना आसान बनाती है एवं अन्य विभागों से उनको उपलब्ध हो सकने वाले लाभों के बारे में जानकारी देती है तथा सरकार की विभिन्न योजनाओं में आवेदन करने में उनका सहायोग करती हैं। यह प्रणाली सफलतापूर्वक संचालित की जा रही है। कई ग्राम प्रधानों द्वारा इसके प्रभावों की सराहना भी की गयी है। आशा ज्योति केन्द्र / वन स्टॉप सेन्टर :

पिछले वर्ष की समाप्ति पर महिला सुरक्षा ईकाई द्वारा अपने कार्यो में एक सुसज्जित आशा ज्योति केन्द्र / वन स्टॉप सेन्टर संचालित करवाने का लक्ष्य शामिल किया गया था, जिसको सफलतापूर्वक सम्पन्न किया गया। जिला प्रशासन के साथ सफल समन्वय स्थापित करते हुये आज सैक्टर-62 नोएडा में एक वन स्टॉप सेन्टर का संचालन आरम्भ हो गया है, जहां 24 घन्टे महिला पुलिस चौकी द्वारा सुरक्षा उपलब्ध कराई जाती एवं पुलिस प्रकरणों से सम्बन्धित पीडिताऐं, जिन्हें 05 दिन तक आश्रय प्रदान करने की आवश्यकता हो, उन्हें सुरक्षापूर्वक इस सेन्टर में रखा जाता है एवं उनकी सभी जरूरते पूर्ण की जाती हैं।

विगत वर्ष भी महिला सुरक्षा ईकाई द्वारा बिना अभियोग पंजीकरण के महिलाओं की समस्याओं खासकर घरेलू हिंसा एवं पारिवारिक विवादों को अधिक से अधिक संख्या में मध्यस्थता के माध्यम से स्तिारित कराने का प्रबल प्रयास किया गया। विगत वर्ष में कुल 1636 प्रर्थना पत्रों में से 1328 प्रकरणों में समझौता कराया गया। कुल 215 प्रकरणों में पंजीकृत हुये एवं 93 में अभी भी मध्यस्थता का प्रयास जारी है।

महिला सुरक्षा ईकाई की तत्परना एवं प्रतिबद्धता के परिणामस्वरूप हाल ही में थाना फेस-2 क्षेत्र में घटित एक 03 वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार एवं हत्या के प्रकरण में घटना के 15 दिन के अन्दर सम्पूर्ण साक्ष्य एकत्रित करते हुये आरोप पत्र मा० न्यायालय में प्रेषित किया गया एवं न्याय

तन्त्र के सहयोग से इस प्रकरण में फास्ट ट्रैक ट्रायल की अन्तर्गत जल्द से जल्द सजा कराई जायेगी।

विगत वर्ष में बहुत ही सफलतापूर्वक ऑपरेशन मुस्कान संचालित किया गया, जिसके अन्तर्गत 78 खोये हुये बच्चों को सफलतापूर्वक उनके परिवारों तक पहुंचाया गया। इस विषय पर निरन्तर कार्य चल रहा है एवं एएचटीयू की टीम प्रत्येक सप्ताह जनपद के सभी बाल संरक्षण गृहों में जाकर काउंसलिंग का कार्य करती है, ताकि ऐसे बच्चों के सम्बन्ध में अधिक से अधिक सूचना प्राप्त हो सके एवं उन्हें उनके परिवारों तक पहुंचाया जा सकें।

विगत वर्ष 06 ऐसी मलिन बस्तियां जहां से बड़ी संख्या में बच्चे बाल भिक्षावृति एवं नशा सेवन में जाते हैं, उन्हें जैनपैक्ट सीएसआर एवं 06 एनजीओज के सहायोग से “सब पढे सब बढे’ कार्यक्रम का आयोजन कराया गया, जो एएचटीयू के निकट पर्यवेक्षण में चल रहे हैं। इस कार्यक्रम के माध्यम से 50 बच्चों को चिन्हित कर सरकारी स्कूलों में दाखिल कराया जा चुका है। इन सभी बच्चों के चेहरों एवं अन्य आवश्यक जानकारी का एक फेसियल मैपिंग डाटा तैयार किया जा रहा है, ताकि भविष्य में भी इन बच्चों को अपराध अथवा अन्य प्रतिकूल परिस्थितियों से बचाया जा सके। नन्हें परिन्दे कार्यक्रम के अन्तर्गत विभिन्न गरीब बच्चों को शिक्षा प्रदान करने हेतु संचालित

वैन्स की संख्या में बढ़ोत्तरी की गयी है, ताकि इसकी सुविधा अधिक से अधिक गरीब बच्चों को

प्राप्त हो सके।

साइबर काइम

विगत वर्षों की भांति साईबर काईम शाखा को और अधिक सुदृढ़ करने हेतु निरन्तर प्रयास जारी रहेंगे, ताकि गौतमबुद्धनगर की साईबर सैल देश के सबसे सक्षम पुलिस बलों के बराबर विकसित हो सके, जो कि जटिल साईबर अपराधों का खुलासा कर सके। जनता द्वारा प्रेषित साईबर काईम सम्बन्धी शिकायतों के निस्तारण को और आसान बनाये जाने हेतु महिला हैल्पडेस्क की तर्ज पर प्रत्येक थाने में साईबर हैल्पडेस्क की स्थापना कराये जाने का कार्य किया जायेगा, इन साईबर हैल्पडेस्क के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जायेगा कि थानों पर साईबर सम्बन्धी शिकायत प्राप्त होने पर “गोल्डन आवर्स” में ही पीड़ितों द्वारा धोखे से किये गये भुगतान को रुकवाया जा सके। विगत वर्ष 2021 में साइबर सेल द्वारा साइबर सेल में प्राप्त शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए लगभग 01 करोड़ 70 लाख रुपया साइबर पीड़ितों को वापस कराए गए हैं।
कोविड की दूसरी लहर में पुलिस की भूमिका:–

कोविड महामारी की दूसरी लहर ने समस्त भारत को काफी प्रभावित किया। इस अवधि में गौतमबुद्धनगर में भी भारी संख्या में लोग संक्रमित हुए एवं एनसीआर तथा समस्त उ०प्र० राज्य से मरीज इलाज हेतु यहां के अस्पतालों में दाखिल हुए। इस कारण ऑक्सीजन सप्लाई एवं अन्य मेडिकल संसाधनों की कमी सामने आयी। गौतमबुद्धनगर पुलिस बल स्वयं भी बड़ी संख्या में संक्रमित होने के बावजूद सभी अस्पतालों में शांति व्यवस्था बनाये रखने में सफल रहे एवं किसी भी अस्पताल में असहज स्थिति उत्पन्न नहीं होने दी।

गौतमबुद्धनगर यातायात पुलिस द्वारा आपातकालीन स्थितियों में आमजन को त्वरित सहायता प्रदान करने हेतु ऑटो को एंबुलेंस तथा ऑक्सीजन वाहन के रूप प्रयोग करने के लिए तैयार कर जनपद वासियों की सहायता में कियाशील किया गया।

रेमडेसिविर इन्जेकशन, ऑक्सीजन सिलेण्डर एवं अन्य दवाईयों की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध निरन्तर कार्यवाही की गई। विभिन्न ऐसे अभियुक्तों की गिरफ्तारी की गई एवं उनसे बरामद किया गया माल पब्लिक सप्लाई हेतु सम्बन्धित विभाग को उपलब्ध कराया गया।

जनपद गौतमबुद्धनगर के विभिन्न भागों फायर सर्विस की गाड़ियां सैनिटाइजेशन करने के लिए सड़कों पर उतरी ताकि कोविड-19 संक्रमण की चेन को तोड़ने में योगदान दिया जा सके। साप्ताहिक लाकडाउन के चलते गौतमबुद्धनगर में पुलिस द्वारा समस्त जनपद के जरूरतमद लोगों / परिवारों को राशन के पैकेट्स वितरित किये ताकि पुलिस हेल्प लाईन्स एवं थानों / चौकियां पर आने वाली मदद की हर पुकार को सहायता पहुंचायी जा सके। इस कार्य में लगभग 40 एनजीओज ने पुलिस का सहयोग किया।

पुलिसकर्मी बड़ी संख्या में स्वयं भी कोविड से संक्रमित हो रहे थे। संक्रमित होकर स्वस्थ हुए पुलिसकर्मियों द्वारा व्यापक स्तर पर प्लाजमा डोनेट कर अन्य लोगों की जान बचाने में अपना योगदान दिया। इस प्रयास को और सफल बनाने हेतु पुलिस आयुक्त महोदय द्वारा एक पुलिस प्लाज्मा बैंक स्थापित किया जहां पर कोई भी 24 घण्टे कॉल करके अपने ब्लड ग्रुप से सम्बन्धित प्लाज्मा की डोनेशन का अनुरोध कर सकता था। यह पहल बहुत सफल रही और इसने विभिन्न जरूरतमन्दों तक मदद पहुंचायी।

ऑक्सीजन की कमी से ग्रस्त अस्पतालों तक समयबद्ध रूरूप से ऑक्सीजन पहुंचाने हेतु यातायात पुलिस द्वारा ग्रीन कॉरीडोर स्थापित किये गये तथा सूचना प्राप्त होने ऑक्सीजन टेंकर / सिलेण्डर वाहनों को सम्बन्धित से समन्वय स्थापित कर कम से कम समय में गन्तव्य स्थान तक पहुंचाया गया।

बहुत सी मलिन बस्तियों में पुलिस द्वारा मास्क एवं सैनिटाइजर वितरित किये गये एवं वहां रहने वाले लोगों को सोशल डिस्टेंशिंग और साफ-सफाई के सम्बन्ध में जागरूक एवं प्रोत्साहित किया गया। कोविड से अनाथ हुए बच्चे एवं जिनके दोनों माता-पिता संक्रमित हो गये थे उनके लिये “आसरा” नामक पहल शुरू की गई, जिसके अन्तर्गत पुलिस द्वारा उन्हें राशन, पका हुआ भोजन रिश्तेदारों के घर पहुंचाने की सेवा परिवारजनों के अन्तिम संस्कार में सहयोग एवं आगे की पढ़ाई के लिये आर्थिक सहयोग उपलब्ध कराया गया। इस पहल में सहयोग देने हेतु 110 जनपदवासियों पुलिस के साथ अपना पंजीकरण कराया एवं यह सभी सेवाऐं बच्चों तक पहुंचाने में सहायता प्रदान की।

नव वर्ष 2022 में पुलिस कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर की प्राथमिकताएं निम्नवत :

1 विधानसभा चुनाव-2022 को शान्तिपूर्ण एवं निष्पक्ष ढंग कराया जाना खासकर कोविड-19 के नये वर्जन ओमिकोन के दृष्टिगत सोशल डिस्टेन्सिंग का अनुपालन कराते हुये चुनाव की सम्पूर्ण गतिविधियों को सम्पन्न कराना।

2 कोविड-19 की तीसरी लहर की सम्भावना को दृष्टिगत रखते हुये कोविड-19 प्रोटोकॉल सम्बन्धी समस्त शासनादेशों का जमीनी स्तर पर पालन कराना अस्पतालों एवं कोरनटाईन सेन्टर्स को आवश्यकता पड़ने पर पर्याप्त सुरक्षा एवं सहयोग प्रदान कराना तथा सम्पूर्ण परिस्थितियों को नियंन्त्रित रखते हुये संक्रमण के प्रभाव को कम से कम बढ़ने देने का प्रयास करना

3 जेवर अन्तर्राष्ट्रीय ऐयरपोर्ट के निर्माण कार्य को पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करना एवं उसके समयबद्ध टारगेट्स को सम्पन्न कराने उचित सहयोग प्रदान करना

4 प्रारम्भ से ही कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर पुलिस द्वारा पुलिस इन्स्फास्ट्रक्चर की बढोत्तरी पर विशेष बल दिया गया है. इसी के परिक्षा में विभिन्न नये भवन पुलिस बैरक पुलिसकर्मियों के आवास एवं गेस्टहाउस आदि) जो कि निर्माधीन हैं, का निर्माण कार्य समयबद्ध रूप से पूर्ण कराना। 10 नये थानों में से शेष बचे 05 थानों को जल्द से जल्द कियाशील कराना।

5 एक स्पेशल सैल की स्थापना जो आतंकी गतिविधियों, रेडिक्लाईजेशन, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों पर हमले की सम्भावना आदि के सम्बन्ध में इन्टेलिजेन्स संकलित करने का विशेष केन्द्र विकसित होगा एवं प्रभावी इनपुट प्राप्त होने पर आतंकी मोडयूल्स को डिफ्यूज करने की क्षमता भी रखेगा।

6 बढ़ते जटिल आर्थिक अपराधों के गुणवत्तापूर्ण निस्तारण हेतु अपराध शाखा एवं थाना थानों में नियुक्त विवेचकों को स्टेट ऑफ द आर्ट बैंकिंग, कम्पनी लॉ, र्चाटर्ड एकान्टेन्सी आदि क्षेत्रों के विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षण दिलाया जायेगा, ताकि पुलिस की कार्यकुशलता एवं दक्षता में बढोत्तरी हो सके।

7 सेफसिटी परियोजना के अन्तर्गत महिला सुरक्षा को प्राथमिकता प्रदान करने हेतु विभिन्न सार्वजनिक स्थल जहां पर महिलाओं का आवागमन अधिक है, वहां “पिंक बूथ्स” की स्थापना की जायेगी, जहां महिलाऐं विभिन्न प्रकार की सहायता एवं सेवाऐं प्राप्त कर सकेंगी। इन बूथ्स से सम्बद्ध “पिंक पेट्रोल वाहनों को भी लॉन्च किया जायेगा।

8 कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर में “क्वालिटि ऑफ लिविंग” को बढ़ावा दिये जाने की दृष्टि से ध्वनि प्रदूषण को गम्भीरता से लेते हुये, इसके विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जायेगी। इस सम्बन्ध में यातायात पुलिस को उचित संसाधन एवं प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है, ताकि यातायात पुलिस ध्वनि प्रदूषण के निर्धारित मानकों का अनुपालन सुनिश्चित करा सके एवं नियमों का उलघंन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ उचित वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित की जा सके।

9- उपरोक्त के अतिरिक्त कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर के नागरिकों से बेहतर समवन्य / संवाद स्थापित करने का प्रयास जारी रहेगा, ताकि गौoनगर के निवासियों की आवश्यकता एवं अपेक्षानुसार पुलिस नये विकल्प एवं नई योजनाऐं प्रदान कर सके। कमिश्नरेट गौoनगर पुलिस वर्ष-2022 में जनता के लिये “सिटीजन फ्रैन्डली” के रूप में विकसित हो ।

 7,179 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.