नोएडा खबर

खबर सच के साथ

एमिटी विश्वविद्यालय में मनाया गया राष्ट्रीय तकनीक दिवस 2022

1 min read

नोएडा, 11 मई।
वर्तमान समय में तकनीकी जीवन का अहम हिस्सा है और तकनीकी के इसी महत्व के बारे में छात्रों को जागरूक करने के लिए बुधवार को एमिटी विश्वविद्यालय में ‘‘ स्थायी भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में एकीकृत दृष्टिकोण’’ विषय पर राष्ट्रीय तकनीक दिवस 2022 मनाया गया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ सीएसआईओ – सीएसआईआर की वरिष्ठ प्रिसिंपल सांइटिस्ट डा सुनिता मिश्रा, मैनकांइड फार्मा के ग्लोबल क्वालिटी के अध्यक्ष डा बिरेंद्र सिंह, लॉग9 मैटेरियल बैगलोर के उपाध्यक्ष श्री रॉबीन जार्ज, एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा बलविंदर शुक्ला, एमिटी सांइस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती, द्वारा किया गया।

इस कार्यक्रम के अंर्तगत एक परिचर्चा सत्र का आयोजन भी किया गया जिसमें सीएसआईओ – सीएसआईआर की वरिष्ठ प्रिसिंपल सांइटिस्ट डा सुनिता मिश्रा ने ‘‘ टेक्नोलॉजी सिनर्जी फॉर इनोवेटिव सांइस’’ पर संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी नये उत्पाद के विकास पर तकनीक प्रबंधन और तकनीक क्षमता का तालमेल सकरात्मक प्रभाव डालता है। अवधारणा विकास चरण में अग्रणी तालमेल प्रक्रिया हेतु तकनीक प्रबंधन और मानव क्षमता एवं तकनीकी प्रबंधन और सूचनात्मक क्षमता के मध्य तालमेल आवश्यक है वही उत्पाद विकास चरण के लिए तकनीक प्रबंधन और मानव क्षमता में तालमेल आवश्यक है। डा मिश्रा ने कहा कि तालमेल के लिए साधन और क्षमता दो महत्वपूर्ण कारक है वही नवाचार के लिए तकनीक क्षमता और तकनीक प्रबंधन मुख्य कारक है। नये उत्पाद विकास के मुख्य तीन स्तर है संकल्पना विकास स्तर, उत्पाद विकास स्तर और बाजार विकास स्तर। उन्होनें कहा कि देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में हमें आत्मनिर्भर तकनीक विकसित करनी होगी और विचारों को उत्पाद बना कर बाजार में उपलब्ध करना होगा। इस प्रकार के कार्यक्रम छात्रों को भारतीय आत्मनिर्भर तकनीक विकसित करने की दिशा में प्रोत्साहित करने का कार्य करेगें।

मैनकांइड फार्मा के ग्लोबल क्वालिटी के अध्यक्ष डा बिरेंद्र सिंह ने ‘‘ टेक्नोलॉजिकल एडवांसमेंट इन फार्मा सेक्टर’’ पर जानकारी देते हुए कहा कि उभरती हुई तकनीक जैसे इंडस्ट्रीयल रोबोट, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग, शोध विकास, उत्पादन और उत्पाद के विश्लेषण में सहायक हो रहे है। जीएमपी सिस्टम नियंत्रण और बचाव के आधुनिकरण हेतु तकनीक आवश्यक है। उन्होनें फार्मा क्षेत्र में तकनीक के उपयोग को बताते हुए कहा कि रोबोटिक्स एंड ऑटोमेशन, जो कि हर समय सही नतीजे प्रदान करते है, स्थायीत्व उत्पादन और नई दवाओं के विकास में भी सहायक है। इसी तरह उन्होनें मशीन लर्निंग, एनालिटिक्स, ड्रग सप्लाई चेन सुरक्षा आदि की जानकारी भी प्रदान की।

लॉग 9 मैटेरियल बैगलोर के उपाध्यक्ष श्री रॉबीन जार्ज ने ‘‘ टेक्नोलॉजी स्ट्रैटजिस फॉर एनर्जी स्टोरेज वैल्यु चेन” पर जानकारी देते हुए कहा कि केवल ग्रीन शब्द लिख देने से स्थायीत्व नही प्राप्त होगा। बढ़ते हुए वैश्विक तापमान से निपटने के लिए उर्जा स्टोरेज वैल्यु चेन के क्षेत्र में तकनीक के उपयोग से लक्ष्य हासिल करना होगा।

एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा बलविंदर शुक्ला ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि राष्ट्रीय तकनीक दिवस पर हमें कई क्षेत्रों में स्थायी विकास के नई तकनीक का उपयोग कर चुनौतियों के समाधान को खोजने का प्रण लेना चाहिए। तकनीक से जहां हमारे जीवन को आसान, उत्पादक और क्षमतापूर्ण बनाया है वही कई जगह हमें सुस्त भी कर दिया है। हमें तकनीकी आधुनिकरण का उपयोग मानव के लाभ हेतु करना चाहिए किंतु पृथ्वी और आने वाली पीढ़ीयों के बारे में भी विचार करना चाहिए। तकनीक का विकास पर्यावरण को सुरक्षित रखकर किया जाये। उन्होनें कहा कि तकनीक विकास के क्षेत्र में हमें आपसी सहयोग को बढ़ावा देना चाहिए और मिलकर समस्या का समाधान ढूढंना चाहिए।

एमिटी सांइस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती ने एमिटी द्वारा संचालित किये जा रहे शोध कार्यो की जानकारी प्रदान करते हुए कहा कि किसी भी देश की मजबूती उसकी तकनीक पर आधारित होती है। एमिटी मे ंहम छात्रों को तकनीकी विकास और नवचार के लिए प्रोत्साहित करते है। तकनीक सदैव हर वर्ग के लिए उपलब्ध, स्थायी, पर्यावरण को नुकसान ना पहंुचाने वाली और आसानी से उपयोग करने वाली होनी चाहिए।

इस अवसर पर एमिटी फांउडेशनल फॉर सांइस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन एलांयस के कार्यकारी महानिदेशक डा ए च्रकवर्ती, अपर महानिदेशक डा नीरज शर्मा, एमिटी स्कूल ऑफ इंजिनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के संयुक्त निदेशक डा मनोज कुमार पांडेय, एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ नैनोटेक्नोलॉजी के प्रमुख डा ओ पी सिंन्हा और एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी एंड बायोकेमिकल इंजिनियरिंग की प्रमुख डा निधी चौधरी भी उपस्थित थे।

 3,406 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.