नोएडा खबर

खबर सच के साथ

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने जासूसी प्रकरण पर केंद्र सरकार को घेरा

1 min read

लखनऊ, 20 जुलाई।
केन्द्रीय कांग्रेस वर्किंग कमेटी बौद्धिक के सदस्य तथा आउट रीच एण्ड को-आर्डिनेशन कमेटी, उत्तर प्रदेश के प्रभारी श्री प्रमोद तिवारी ने कहा है कि यह भारतीय लोकतंत्र के लिये सबसे शर्मनाक और ‘‘काला अध्याय’’ है, जब भारतीय जनतापार्टी की केन्द्रीय सरकार ने सबसे बड़े विरोधी दल के नेता श्री राहुल गांधी जी, अपनी ही सरकार के मंत्री श्री प्रहलाद पटेल और श्री अष्विनी वैष्णव, मा. सर्वोच्च न्यायालय के तत्कालीन न्यायाधीश और राज्य सभा सांसद श्री रंजन गगोई, पूर्व चुनाव आयुक्त श्री अशोक लवासा एवं वरिष्ठ पत्रकार सहित लगभग 300 लोगों के फोन की जासूसी इजराइली स्पाइवेयर पेगासस कंपनी द्वारा करायी गयी। यह रिपोर्ट फ्रांस की संस्था ‘‘फाॅरबिडेन स्टोरीज’’ द्वारा लीक नम्बरों के आधार पर तैयार की गयी है, संयुक्त राष्ट्र ने भी इसे अत्यंत चेतावनीपूर्ण मामला करार दिया है ।
श्री तिवारी ने कहा है कि यह लोकतंत्र के लिये अत्यंत शर्मनाक और घातक है, ऐसे में आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और केन्द्रीय गृृह मन्त्री श्री अमित शाह जी को एक क्षण भी ‘‘कुर्सी’’ पर बने रहने का अधिकार नहीं है, जो लोकतंत्र में भी स्वतंत्र अभिव्यक्ति, निष्पक्ष पत्रकारिता, ईमानदारी से कर्तव्य निर्वाहन करने वाले और अत्यंत संवेदनषील मामले पर ऐतिहासिक फैसला देने वाले मा. सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीष श्री रंजन गगोई, वर्ष 2019 में लोक सभा का चुनाव कराने वाले पूर्व चुनाव आयुक्त श्री अशोक लवासा की निगरानी करायी जाय । लोकतंत्र में यह नहीं हो सकता – यह तो मात्र ‘‘तानाशाही’’ में ही संभव है। ऐसी खबरें है कि रक्षा क्षेत्र से जुड़े हुये महत्वपूर्ण अधिकारी की भी फोन टेपिंग पेगासस द्वारा हुई है ।
श्री तिवारी ने कहा है कि ऐसा करके लोकतंत्र के 4 स्तम्भों, न्यायपालिका, विधायिका, पत्रकारिता और कार्यपालिका सभी की मान- मर्यादा ध्वस्त की जा रही है । ऐसे में विपक्ष का नैतिक दायित्व बनता है कि वह आपसी भेदभाव भूलकर सरकार पर निर्णायक लोकतांत्रिक प्रहार के लिये एकजुट हो । संपूर्ण प्रकरण की जांॅच जे.पी.सी.(संयुक्त संसदीय समिति) द्वारा की जाय, जिससे दोषी सामने आयें, क्योंकि यदि दोषी को बचाने की कोषिष की गयी तो यह लोकतंत्र की हत्या होगी ।
श्री तिवारी ने कहा है कि आदरणीय प्रधामंत्री जी कृृपया यह बतायें कि आपने जिन वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों को मंत्रिमण्डल से हटाया है, कहीं उनको हटाने के पीछे इसी जासूसी रिपोर्ट का हाथ तो नहीं था ? कि वे कुछ ऐसा कर रहे थे जो आपके या देष के हित में नहीं था ?
श्री तिवारी ने कहा है कि हंसी आती है कि जो सदन में विपक्ष के हंगामे को अनुचित मान रहे है, और जिस भारतीय जनतापार्टी का नया नाम ‘‘भारतीय जासूस पार्टी’’ हो गया है, उसने कई माह तक संसद को नहीं चलने दिया था और जे.पी.सी.(संयुक्त संसदीय समिति) से जांच कराने की मांग की थी, आज आदरणीय प्रधानमंत्री जी उपदेष दे रहे हैं और परम्परायें बता रहे है, तथा कह रहे हैं कि आदिवासी और महिलाओं मंत्रिमण्डल में लिये जाने से विपक्ष खुष नहीं है ।
आदरणीय प्रधानमंत्री जी ! यह पहली बार नहीं हुआ है कि आदिवासी और महिलायें मंत्री बनायी गयी है पहले भी ये मंत्री बनाये जाते रहे हैं । झारखण्ड और छत्तीसगढ़ में जहांॅ आदिवासी को मुख्यमंत्री बनाना था वहांॅ तो आपने आदिवासी को मुख्यमंत्री नहीं बनाया था, आदरणीय प्रधानमंत्री जी आप आदिवासी का और कितना अपमान करेंगे ?
श्री तिवारी ने कहा है कि भारतीय जनतापार्टी की केन्द्र सरकार ने अपना जन विष्वास खो दिया है ।

प्रमोद तिवारी की तरफ से जारी अधिकृत बयान

खबर को प्रकशित करने की कृपा करें

 1,686 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.