नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा, 11 जून।

हाईस्कूल के छात्रों को कैरियर चुनने एंव निर्णय लेने में सहायक बनने के लिए तथा कॉलेज जाने से पहले विश्वविद्यालय जीवन का अनुभव प्रदान करने हेतु एमिटी विश्वविद्यालय में दो सप्ताह (10 से 21 जून) का एमिटी यूनिवर्सिटी समर स्कूल प्रोग्राम का शुभारंभ किया गया। यह समर स्कूल छात्रों को प्रबंधन, कानून, इंजीनियरिंग, पत्रकारिता सहित कई अन्य पाठयक्रम के अवसर प्रदान करता है जिसमें छात्र अपनी रूचि के अनुसार व्यावहारिक एवं प्रयोगिक ज्ञान प्राप्त करते है। इस वर्ष एमिटी यूनिवर्सिटी समर स्कूल प्रोग्राम में 180 से अधिक विद्यालयों के लगभग 357 छात्र हिस्सा ले रहे है।

एमिटी यूनिवर्सिटी समर स्कूल के उप निदेशक श्री अंजनी कुमार भटनागर ने बताया कि इस 21 जून तक चलने वाले इस समर स्कूल कार्यक्रम का पाठयक्रम छात्रों को उनके चुने हुए क्षेत्रों में व्यावहारिक और प्रयोगिक ज्ञान से लैस करने के लिए संरचित है। छात्रो को उनके नियमित विशेष सत्रों के लिए एमिटी विश्वविद्यालय के विभिन्न संस्थानों में भेजते है जहां पर योग्य एवं अनुभवी संकाय प्रत्येक छात्र पर व्यक्तिगत ध्यान देते है। इस एमिटी यूनिवर्सिटी समर स्कूल प्रोग्राम अंर्तगत उद्योग विशेषज्ञों के अतिथि व्याख्यान, व्यक्तिगत निर्माण सत्र, फिटनेस सत्र और सांस्कृतिक गतिविधियां भी शामिल है। इस समर स्कूल प्रोग्राम में देश के विभिन्न स्कूलों जैसे मुबंई के ओबेरॉय इंटरनेशनल स्कूल, दून इंटनेशनल स्कूल, जीडी गोयनका स्कूल, एक्सेलसियर अमेरिकन स्कूल, डेली कॉलेज इंदौर, एमिटी इंटरनेशनल स्कूल, एमिटी ग्लोबल स्कूल आदि ने 357 छात्र हिस्सा ले रहे है।

एमिटी यूनिवर्सिटी समर स्कूल प्रोग्राम के अंर्तगत आज छात्रों को एमिटी स्कूल ऑफ इंश्योरेंस बैकिंग एंड एक्चुरियल सांइसेस के विशेषज्ञों द्वारा ‘‘बीमा बैकिंग और एक्चुरियल साइंस का भविष्य – आगे के रूझान और चुनौतियां’’ पर जानकारी प्रदान की गई। एमिटी स्कूल ऑफ इंश्योरेंस बैकिंग एंड एक्चुरियल सांइसेस की डा नेहा वर्मा ने कहा कि इंश्योरेंस , जोखिम के प्रबंधन का एक तरीका है और यह हमें बीमारी, दुर्घटना और प्राकृतिक आपदा से सुरक्षा तंत्र प्रदान करता है। डा वर्मा ने जीवन बीमा और साधारण बीमा के प्रकारों के अंर्तगत स्वास्थय बीमा, अग्नि बीमा, समुद्री बीमा और वाहन बीमा के बारे में जानकारी दी। वर्तमान समय में एआई और मशीन लर्निंग का उपयोग बीमा के क्षेत्र में धोखा का पता लगाने, ग्राहक सेवा, दावा प्रोसेस आदि मे उपयोगी साबित हो रहा है। उन्होनें इंश्योरेंस, बैकिंग और एक्चुरियल साइंस में कैरियर अवसरों के बारे में भी जानकारी दी।

इसके अतिरिक्त एमिटी सेंटर फॉर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के निदेशक डा एम के दत्ता द्वारा ‘‘एआई किस तरह हमारी दुनिया को बदल रहा है – आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के भविष्य की यात्रा’’ विषय पर व्याख्यान दिया गया जिसमें जानकारी देते हुए डा दत्ता ने कहा कि एआई, नवाचार में एक प्रभावशाली विज्ञान है। एआई तकनीक जो मशीन को मानव व्यवहार की नकल करने में सक्षम बनाती है। डा दत्ता ने उद्योगों सहित हर क्षेत्र में एआई, मशीन लर्निंग, डीप लर्निंग आदि की जानकारी भी दी।

 12,988 total views,  1,954 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.