नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा की सीईओ रितु माहेश्वरी ने विभिन्न क्षेत्रों का दौरा किया, कई जगह अफसरों को फटकारा

1 min read

नोएडा, 20 जून।

नोएडा की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने सोमवार को नौएडा के विभिन्न क्षेत्रों को भ्रमण किया तथा सिविल विकास से जुड़े कार्यों का निरीक्षण किया गया। नौएडा क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों, सफाई, अनुरक्षण कार्यों की समीक्षा भी की गई तथा कार्यों में तीव्रता लाने एवं गुणवत्ता सम्बन्धी निर्देश दिये गये।

सर्वप्रथम सैक्टर-14ए से प्रस्थान कर वर्क सर्किल – 1 के अधीन प्रगतिरत कार्यों का निरीक्षण किया गया, जहाँ अनुरक्षण कार्यों की स्थिति खराब पाई गई। उद्योग मार्ग पर टाईल एवं नाली के प्रगतिरत कार्यों को शीघ्रता से पूर्ण करने हेतु निर्देश दिये गये। उद्योग मार्ग से सैक्टर-1 का निरीक्षण किया गया एवं निरीक्षण करते हुए सैक्टर-6 एवं 7 के मध्य वाली सड़क से सैक्टर-8 में प्रगतिरत कार्य की जानकारी सम्बन्धित वरिष्ठ प्रबन्धक को नहीं थी । इन्टरलॉकिंग टाईलों का कार्य लम्बित पाया गया।

सैक्टर-5 में जल विभाग के कार्यालय के सम्मुख वाली सड़क से निकलते हुए उद्योग मार्ग होते हुए सैक्टर-5 स्थित भूमिगत कार पार्किंग का निरीक्षण किया गया । जगह-जगह सड़कों पर गाडियाँ खड़ी पाई गई। पार्किंग के बेसमेन्ट में पानी भरा हुआ पाया गया एवं पार्किंग के बाहर सड़कों पर अवैध रूप से गाड़ियां खड़ी पाई गई। पार्किंग में विभिन्न शोरूम की टाटा मोटर्स, फॉक्स वेगन, स्कोडा की नई गाड़ियाँ खड़ी पाई गईं तथा क्षतिग्रस्त गाड़ियाँ भी पार्किंग में खड़ी पाई गई। इस सम्बन्ध में शोरूम की गाड़ियाँ एवं क्षतिग्रस्त गाड़ियाँ पार्क करने हेतु मना किया गया। इस हेतु सम्बन्धित वरिष्ठ प्रबन्धक / प्रबन्धक / सहा0 प्रबन्धक को प्रतिकूल प्रविष्टी देने हेतु निर्देशित किया गया तथा कार्यों को शीघ्रता / गुणवत्ता के साथ पूर्ण करने के निर्देश दिये गये।

निरीक्षण के दौरान उद्योग मार्ग की सड़कों की सफाई व्यवस्था सन्तोषजनक पायी गईं। परन्तु नर्सरी के बाहर ड्रेन में बहुत गन्दगी / फ्लोटिंग मैटेरियल पाया गया। साथ ही औद्योगिक सैक्टरों 5, 8, 9 व 10 में नालियों जगह-जगह अवरुद्ध पाई गई। उक्त सैक्टरों से संविदा पर कार्यरत सफाईकर्मियों को हटाने के निर्देश दिये गये । इन सैक्टरों में नालियाँ / ड्रेन चोक होने के दृष्टिगत सम्बन्धित संविदाकार पर रू0 2 लाख की पेनल्टी लगाये जाने हेतु निर्देशित किया तथा सम्बन्धित सफाई निरीक्षक एवं सहा० परियोजना अभियन्ता को प्रतिकूल प्रविष्टी देने हेतु निर्देशित किया गया।सैक्टर-5 स्थित यूरिनल का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान यूरिनल साफ पाया गया तथा यूरिनल पर सफाई कर्मी भी तैनात पाया गया, परन्तु यूरिनल के बाहर सड़क पर बरसात पानी भरा हुआ था, जिस पर मुख्य कार्यपालक अधिकारी द्वारा नराजगी व्यक्त की गई। बताया गया कि उक्त यूरिनल पर पानी की निकासी हेतु ड्रेन की निकासी नहीं दी गई है। इस हेतु मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा वरि० प्रबन्धक (वर्क सर्किल – 1 ) को निर्देशित किया गया।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी द्वारा सैक्टर-21ए स्थित स्टेडियम चौराहे पर बी०ओ०टी० आधार पर बने यूरनिल का निरीक्षण किया गया। उक्त यूरिनल पर कोई भी सफाई कर्मी तैनात नहीं था तथा यूरीनल भी बहुत गन्दा था। मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा सम्बन्धित BOT के संविदाकार पर रू0 2 लाख की पेनल्टी लगाये जाने हेतु निर्देशित किया गया। इसी यूरिनल के बाहर सड़क पर घास उगी हुई पायी थी। घास तथा सड़क की सफाई करने हेतु मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा मैसर्स लॉयन सर्विसेज प्रा० लि० सम्बन्धित सफाई निरीक्षक को निर्देशित किया गया तथा भविष्य में पुनरावृत्ति न हो इस हेतु चेतावनी दी गई है।

इसके पश्चात् मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा सैक्टर-28,29, 30 एवं 37 का निरीक्षण किया गया। उक्त सैक्टरों में सफाई व्यवस्था सन्तोषजनक पायी गई तथा सफाई कर्मी कार्यरत पाये गये। परन्तु मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा सैक्टरों की आन्तरिक एवं बाह्य नालियों की सफाई किये जाने हेतु जोर दिया गया ।

तदोपरान्त सैक्टर-27, 28 एवं 37 के आन्तरिक क्षेत्रों का भ्रमण किया गया, जहाँ अनुरक्षण कार्यों पर संतुष्टि प्रकट की गई। इसके बाद ग्राम निठारी पहुँचकर साफ-सफाई एवं अन्य कार्यों का निरीक्षण किया गया। ग्राम निठारी में वर्क सर्किल – 2 द्वारा निर्मित प्लेग्राउण्ड में गेट लगवाये जाने हेतु निर्देशित किया गया तथा प्लेग्राउण्ड एवं प्लेग्राउण्ड के आस-पास गंदगी पाई गई, जिसकी शीघ्र सफाई हेतु एवं भविष्य में नियमित सफाई कराने हेतु जनस्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया तथा साफ-सफाई गुणवत्तापूर्ण न होने के दृष्टिगत सड़क की सफाई का स्टाफ के विरुद्ध कार्यवाही किये जाने हेतु एवं सम्बन्धित सड़कों के सफाई संविदाकार एवं ए. जी. एन्वायरों पर रु0 2-2 लाख की पेनल्टी लगाये जाने हेतु निर्देशित किया गया।

तत्पश्चात नौएडा स्टेडियम, सैक्टर-21ए के आस-पास निरीक्षण किया गया, जहाँ रोड साइड किये गये अनुरक्षण कार्य एवं नालियों के अनुरक्षण की स्थिति ठीक पाई गई।

इसके अतिरिक्त सैक्टर-18 पहुँच कर सैक्टर के आन्तरिक एवं बाह्य क्षेत्रों का भ्रमण किया गया। सैक्टर-18 में विभिन्न स्थानों पर अतिक्रमण पाया गया। सैक्टर-18 में निर्मित मल्टीलेवल कार पार्किंग का निरीक्षण किया, जिसमें अधिकांश तल खाली पड़े हुए थे तथा बेसमेन्ट में पानी भरा हुआ पाया गया। निर्देशित किया गया कि पार्किंग में शो-रूमकी गाड़ियाँ न पार्क की जायें। इसके अतिरिक्त मल्टीलेवल कार पार्किंग की पेन्टिंग कराये जाने हेतु भी निर्देशित किया गया। सैक्टर की सर्फेस पार्किंग हेतु चिन्हित स्थलों पर थर्मोप्लास्टिक पेन्ट से रोड मार्किंग कराई जाये। इसके अतिरिक्त डी. एल. एफ. मॉल की ओर अवैध रूप से पार्क की जा रही गाड़ियों को Tow करने की कार्यवाही नियमित रूप से सम्पादि कराई जाये तथा अट्टा मार्केट में किये जा रहे अतिक्रमण को हटाने की कार्यवाही नियमित रूप से की जाये। सैक्टर-18 में सफाई व्यवस्था सुदृढ़ पायी गई तथा सफाई कर्मी कार्यरत पाये गये। सैक्टर-18 पार्किंग में निरीक्षण के दौरान पाया गया कि पार्किंग कैम्पस में रखे गमलों के पौधे सूख गये हैं, जिन्हें पुनः स्थापित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया ।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल सैक्टर-135 में भूसा, हरा चारा, पौष्टिक आहार का स्टॉक रजिस्टर तथा कर्मचारियों की उपस्थिति पंजिका, गौ आश्रय स्थल में आने वाले पशुओं का एन्ट्री रजिस्टर आदि का परीक्षण किया तथा गोवंशों के बाड़े में मिश्रित चारे का निरीक्षण किया गया जो कि ठीक पाया गया । मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया द्वारा गौ आश्रय स्थल में गौ सेवकों की आपूर्ति करने वाले संविदाकार M/s Onkar Singh को जो कर्मी कार्य में लापरवाही बरत रहे हैं उन्हें तत्काल प्रभाव से हटाकर नये कर्मी तैनात करने के निर्देश दिये गये हैं तथा भविष्य में हरे चारे, भूसा, पौष्टिक आहार को उचित प्रकार से पानी के साथ मिलाकर गौवंशों को खिलाने में लापरवाही पाये जाने पर M/s Onkar Singh को काली सूची में डालने की कार्यवाही किये जाने की चेतावनी दी गई।

गौशाला में गोबर गैस प्लान्ट को एक सप्ताह में ठीक कराकर चालू करने के निर्देश दिये गये तथा पशु चिकित्सक की तैनाती प्रतिदिन के आधार पर करने हेतु मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को वरि० परियोजना अभियन्ता ( जन स्वास्थ्य ) पत्र प्रेषित करने के ) निर्देश दिये गये ।

 5,742 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.