नोएडा खबर

खबर सच के साथ

राम मंदिर आंदोलन के पुरोधा दिनेश चंद्र त्यागी का निधन

1 min read

 

नई दिल्ली, 23 जुलाई।

श्रीरामजन्मभूमि मुक्ति आन्दोलन के प्रणेता रहे संघ के वयोवृद्ध नेता दिनेश चन्द्र त्यागी का निधन हो गया। शुक्रवार को मेरठ मेडिकल कॉलेज में उन्होंने अन्तिम साँस ली। वह 78 वर्ष के थे। तबियत बिगड़ने पर उन्हें 20 दिन पहले मुरादाबाद के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 22 जुलाई को ही उन्हें मेरठ रेफर किया था।

मुरादाबाद में डाली थी श्रीरामजन्मभूमि मुक्ति आन्दोलन की बुनियाद:

मुरादबाद को कर्मभूमि बनाने वाले दिनेश चन्द्र त्यागी का जन्म 13 अगस्त 1943 को अमरोहा जनपद (तब मुरादाबाद ही) की धनौरा तहसील के गाँव पेली कपसुआ उर्फ़ पेली तगा में हुआ था। संघ के विभाग प्रचारक और हिन्दू जागरण मंच के लिये कार्य करते हुए उन्होंने 1982 में मुरादाबाद में बड़ा हिन्दू सम्मेलन किया था। इसी सम्मेलन में उन्होंने पूर्व कैबिनेट मन्त्री दाऊदयाल खन्ना के साथ मिलकर श्रीरामजन्मभूमि को मुक्त कराने का मुद्दा उठाया था।

1982 में मुरादाबाद में टाउन हाल के पास बजरंग बली मन्दिर में यह हिन्दू सम्मेलन हुआ था। इस सम्मेलन में श्रीरामजन्मभूमि मुक्ति आन्दोलन का प्रस्ताव पास हुआ था। इसके बाद कैबिनेट मन्त्री और कांग्रेसी नेता दाऊदयाल खन्ना ने अयोध्या में राममन्दिर निर्माण के लिए सरकार को चिट्ठी भी लिखी थी।

इसके बाद 1983 में मुज़फ़्फ़रनगर में दिनेश चन्द्र त्यागी ने विशाल हिन्दू सम्मेलन आयोजित किया जहाँ बहुत बड़ी संख्या में लोग पहुँचे और सभी ने श्रीरामजन्मभूमि को मुक्त कराने के लिए हामी भरी थी। इसके ठीक बाद दिल्ली में हुए हिन्दू सम्मेलन में बाक़ायदा इसका प्रस्ताव पास कराकर दिनेश चन्द्र त्यागी ने राम मन्दिर मुद्दे को राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया।

दिनेश चन्द्र त्यागी के जीवन का सफरनामा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में मुरादाबाद के जिला प्रचारक और बाद में मेरठ व मुरादाबाद विभाग के विभाग प्रचारक रहे।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के निदेशक रहे। करीब 150 सरस्वती शिशु मन्दिर स्कूलों के निर्माण में भूमिका रही।

हिन्दू महासभा के 11 वर्षों तक राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे।
विश्व हिन्दू महासंघ के अन्तर्राष्ट्रीय सचिव रहे।

1984 में मुरादाबाद से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ा। कांग्रेस के हाफिज मोहम्मद सिद्दीकी को कड़ी टक्कर दी।

वर्तमान में राष्ट्रीय शिक्षा समिति के निदेशक और सांस्कृतिक गौरव संस्थान के राष्ट्रीय महामन्त्री थे।

मुरादाबाद में 1980 में पंडित शम्भूनाथ दुबे सरस्वती शिशु मन्दिर की स्थापना की।

 1,872 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.