नोएडा खबर

खबर सच के साथ

री-सस्टीनेबेलिटी को मिली सुपरटेक ट्विन टावर का 30 हजार टन मलबा हटाने की जिम्मेदारी

1 min read

नोएडा, 1 सितंबर।

सुपरटेक ट्विन टावरों के विध्वंस के बाद अब इस इमारत के मलबे को हटाने का महत्वपूर्ण काम शेष बचा है। 10 सेकंड के भीतर ट्विन टावरों के मलबे में बदलने के बाद लगभग 30000 टन मलबा घटनास्थल पर एकत्र हो गया था।

इस इमारत के मलबे से निपटने का काम एशिया की अग्रणी पर्यावरण प्रबंधन और सर्कुलर कंपनी री सस्टेनेबिलिटी (जिसे पहले रामकी एनवायरो इंजीनियर्स लिमिटेड के नाम से जाना जाता था) को सौंपा गया है। कंपनी को इस मलबे को हटाने और इसकी रीसाइक्लिंग और रिसोर्स रिकवरी सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी दी गई है। कंपनी प्रतिदिन 300 टन कचरे को प्रोसेस करेगी। कंपनी यह काम तीन महीने की अवधि में नोएडा में अपने अत्याधुनिक निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट प्रोसेसिंग और रिसाक्लिंग फेसिलिटी में पूरा करेगी।

री सस्टेनेबिलिटी के सीईओ मसूद मल्लिक ने कहा, ‘सी एंड डी कचरे की रिसाइक्लिंग और इसे निर्माण सामग्री में परिवर्तित करने की इस महत्वपूर्ण जिम्मेदारी को लेकर री सस्टेनेबिलिटी खुश है। हम प्रक्रिया में तेजी लाने और सस्टेनेबल रिसोर्स रिकवरी सुनिश्चित करने के लिए अपने सभी प्रयासों को बेहतर तरीके से लागू करेंगे। उद्योगों के साथ हमारी साझेदारी को देखते हुए हमें उम्मीद है कि रिसाइक्लिंग के माध्यम से विशेष रूप से नोएडा में हमारे निर्माण और विध्वंस संयंत्र द्वारा बनाई गई निर्माण सामग्री के साथ शानदार इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार हो सकेगा।’’

उद्योग में अग्रणी होने के नाते, री सस्टेनेबिलिटी ने देश भर में कई स्थायी समाधानों का बीड़ा उठाया है। सेक्टर-80, नोएडा में निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट पुनर्चक्रण संयंत्र देश के सबसे कुशल सी एंड डी प्रोजेक्ट में से एक है। पीपीपी संयंत्र संभावित पर्यावरणीय खतरों को दूर करने के लिए सड़कों, खुले भूखंडों और अन्य स्थानों पर निर्माण मलबे के डंपिंग के लंबे समय से चले आ रहे मुद्दे को दूर करता है। संयंत्र से तैयार रिसाकिल प्रोडक्ट्स में मैन्यूफेक्चर्ड सेंड, एग्रीगेट्स, टाइल्स, पेवर ब्लॉक और प्री-कास्ट कंक्रीट उत्पाद शामिल हैं। ये सभी उत्पाद संवेदनशील प्राकृतिक संसाधनों के स्थान पर इस्तेमाल किए जाते हैं।

 6,161 total views,  4 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.