नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा : फोनरवा में चुनाव से पहले 22 अक्टूबर को एजीएम , विरोधी पक्ष ने की बहिष्कार की अपील, शक्ति संतुलन की तैयारी

1 min read

नोएडा, 22 अक्टूबर।

नोएडा शहर की सबसे बड़ी नागरिकों की संस्था फोनरवा की वार्षिक साधारण सभा की बैठक रविवार को सेक्टर 52 स्थिति फोनरवा कार्यालय में बुलाई गई है इस बैठक में कई अहम फैसले लिए जाएंगे बैठक 11:00 बजे सुबह होगी इसमें फोन लगाकर सभी सदस्य शामिल हो सकते हैं उधर फोन लगाकर चुनाव की घोषणा हो चुकी है 19 नवंबर को चुनाव है इससे पहले ही एक धड़े ने वार्षिक साधारण सभा की बैठक की बहिष्कार की अपील कर दी देखना होगा की वार्षिक साधारण सभा में कितने लोग प्रतिनिधि के रूप में शामिल होंगे और कितने लोग बहिष्कार की अपील में भागीदार होंगे एजीएम को लेकर भी सोशल मीडिया पर टीका टिप्पणी चल रही है।

सबसे पहले फोनरवा ने 22 अक्टूबर को एजीएम बुलाने का सर्कुलर जारी किया था। यह बैठक सुबह 11 बजे होनी है। बैठक से पहले ही फोनरवा चुनाव में अध्यक्ष पद पर ताल ठोक रहे सेक्टर 27 आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष राजीव गर्ग ने शनिवार रात 11 बजे बहिष्कार की अपील कर हलचल पैदा कर दी। राजीव गर्ग ने जो लिखा है वह हूबहू आपकी जानकारी में शेयर कर रहे हैं। उनके कई साथियों का इस अपील में नाम व पद के हिसाब से जिक्र है। आप भी पढ़िए

राजीव गर्ग ने लिखा है कि

आप सभी सम्मानित फोनरवा सदस्यों को अवगत कराना चाहते हैं कि निवृतमान फोनरवा महासचिव द्वारा दिनांक 22.10.23 दिन रविवार को बुलाई गई वार्षिक आम सभा को असंवैधानिक मानते हुए अधिसंख्य RWAs नें इसका बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। क्योंकि निवृतमान फोनरवा अध्यक्ष एवं महासचिव द्वारा असंवैधानिक तरीकों का प्रयोग करते हुए ना केवल तानाशाही पूर्ण अवैध रूप से अपना कार्यकाल बढ़ाया अपितु अपने समर्थन को मजबूती देने के लिए मनमाने तरीके से कई RWAs को फोनरवा कार्यकारिणी का कार्यकाल समाप्त हो जाने के बाद सदस्य बनाया है। और कई अन्य RWAs को लंबे समय से लगातार आवेदन करने के बाद भी फोनरवा की सदस्यता नहीं दी गई।
जिस कोर्ट केस का हवाला देते हुए निवृतमान फोनरवा अध्यक्ष एवं महासचिव महोदय ने फोनरवा चुनाव को टाला गया उक्त कोर्ट केस का स्टेटस आज भी वही है जो तब था जबकि इन्होंने फोनरवा के चुनाव ना करवाते हुए अपना कार्यकाल बढ़ाया था। इन सब अनियमितताओं के विरोध में हमारे द्वारा डिप्टी रजिस्ट्रार कार्यालय एवं फोनरवा कार्यालय में शिकायत पत्र दिनांक 19.09.23 एवं दिनांक 16.10.23 को जमा करवा दिए गए हैं। अतः इन सब के अतिरिक्त अन्य कई अनियमितताओं के विरोध में हम दिनांक 22.10.23 को प्रस्तावित आमसभा का बहिष्कार करते हैं और साथ ही यह मांग करते हैं कि आगामी फोनरवा चुनाव डिप्टी रजिस्ट्रार महोदय की देख रेख में कराए जाएं। चूंकि दिनांक 22.10.23 को बुलाई गई वार्षिक आम सभा असंवैधानिक है अतः आप सभी सम्मानित बंधुओं से निवेदन करते हैं कि इस अलोकतांत्रिक बैठक का बहिष्कार करें।

निवेदक:
राजीव गर्ग
अध्यक्ष, सैक्टर 27, नोएडा।
प्रत्याशी, अध्यक्ष फोनरवा

जे पी उप्पल
महासचिव सैक्टर 36, नोएडा।
प्रत्याशी, महासचिव फोनरवा

ओ पी यादव
अध्यक्ष, अरावली अपार्टमेंट सैक्टर 52, नोएडा।

योगेश शर्मा
निवृतमान उपाध्यक्ष, फोनरवा

अनीता सिंह
अध्यक्ष, सैक्टर 36, नोएडा।

संजीव कुमार
महासचिव, सैक्टर 51, नोएडा।

राजीव चौधरी
महासचिव, सैक्टर 61, नोएडा।

सतीश अवाना
अध्यक्ष, सैक्टर 46, नोएडा।

अनिल खन्ना
अध्यक्ष, सैक्टर 41, नोएडा।

अनिल सिंह
अध्यक्ष, सैक्टर 53, नोएडा।

ओमवीर बंसल
अध्यक्ष, सैक्टर 105 नोएडा।

बलराज गोयल
अध्यक्ष, सैक्टर 12, नोएडा।

पवन गोयल
अध्यक्ष, RWA-BCD, सैक्टर 48

मदन लाल शर्मा
महासचिव, सैक्टर 27, नोएडा।

संदीप कुमार जिंदल
महासचिव, RWA-BCD, सैक्टर 48, नोएडा।

अनिल प्रकाश रनोत्रा ,अध्यक्ष- सेक्टर-51, नोएडा।

सतपाल यादव, अध्यक्ष, सेक्टर 71 , जागृति अपार्टमेंट, नोएडा।

पुनीत शुक्ला, अध्यक्ष, एवरग्रीन आरडब्ल्यूए, सेक्टर 12 नोएडा।

उधर फोनरवा के उपाध्यक्ष पवन यादव ने भी एक पत्र सभी आरडब्ल्यूए के नाम जारी करते हुए बैठक में शामिल होने की अपील की गई है। पवन यादव ने क्या कहा है पढ़िए यह अपील

*बहिष्कार करने से नही सदन में बहस करने से मजबूत होता है लोकतंत्र*

सम्मानित साथियों जैसा कि हम सभी को विदित है कि आज 22/10/22 को हम सभी आरडब्ल्यूए की मूल आत्मा, लोकतांत्रिक तरीके से गठित संस्था फोनरवा की आमसभा का आयोजन किया गया है और हम सभी सदस्यो को इसका निमंत्रण पत्र भी समय से मिल चुका है। हम सभी ने इस समय चल रहे व्यस्तता भरे कार्यक्रमों को स्थगित करते हुए सेक्टर के निवासियों की संस्था आरडब्ल्यूए के लिए फोनरवा की आमसभा का समय सुरक्षित किया है क्योंकि

1 हम सभी के पास एक मंच और एक मौका होता है कि हम सभी सदस्य फोनरवा संस्था के वार्षिक कार्यकाल में हुए कार्यों को जाने उन पर विस्तृत चर्चा करें। आगमी वर्षो में नोएडा को और बेहतर कैसे बनाए जाए, आरडब्ल्यूए में और क्या कार्य किए जाए सभी अपने 2 अनुभव साझा करें, अपने आचार विचार आदान प्रदान करें।

2. ऐसे समय में जब सब कुछ तयारी की गई है तब रात्रि 11 बजे के बाद जब लगभग सभी के सोने का वक्त होता है हमारे कुछ सम्मानित सदस्य लिखते है कोई बैठक में न जाए क्योंकि हम चंद लोग बैठक बहिष्कार करते है। लोकतंत्र के साथ हमारे फोनरवा परिवार के सम्मानित सदस्यो के साथ ये कैसा मजाक है कि आप कभी भी हमारे अधिकारो का हनन कर दोगे।

3 साथियों आम सभा एक ऐसी बैठक होती है जिसमे हम सभी अपने विचार रखते है और दुसरो के विचारो को सुनते है। कोई नियम लाकर सदन की सहमति लेकर देखते है आखिर हमारे साथ कितने लोग है जो हमारी बातो से सहमत है और कितने असहमत है, उसे पारित कराते है।

4. फोनरवा का कार्यकाल जैसा कि संविधान में वर्णित है कि किसी परिस्थित में कमेटी 3 माह बढ़ाया जा सकता है, क्यों बढ़ाया गया कैसे बढ़ाया गया इस पर भी विस्तृत चर्चा करते, अध्यक्ष /महा सचिव अपनी बात रखते सदन निर्णय लेता गलत किया या सही किया रात्रि के अंधेरे में इससे भागने की जरूरत क्या पड़ी और हम सदस्यो के अधिकारो का हनन रात्रि के अंधेरे में क्यों?

5. पिछले 15 दिनों से आप सभी से मिलकर कह रहे AGM में अध्यक्ष महा सचिव का डटकर विरोध करेंगे आप साथ दीजिए, सदस्यो का समर्थन हमारे साथ है तो फिर रात के अंधेरे में सदन को बहिष्कार करने की जरूरत क्यों पड़ी इससे लगता है आपके विचारो में स्थिरता नही है। आप खुद ही नही तय कर पा रहे है कि आपको करना क्या है।

6. इसलिए रात्रि के अंधेरे में लोकतंत्र का बहिष्कार मत कीजिए वर्ना जनता जनार्दन होती है वह दिन के उजाले में आपका वहिष्कार कर देगी। आप तो अभी से स्थिर नहीं हो तो जनता आप अस्थिर लोगो को फोनरवा में क्यों चुने? इसलिए अपने विचारो में स्थिरता लाइए, भागने की बजाय मुकाबला करने की आदत डालिए। लोकतंत्र भागने से नही सदन में अपनी बातो को मजबूती से रखने से मजबूत होता है।

7. आपके पत्रों में बार बार फोनरवा कार्यकारिणी को कालातीत करने की मांग की गई है क्या खुद को भी कालातीत करने की कोई मांग करता है। किसी व्यक्ति से पद से हमारे विचार भिन्न हो सकते है क्या हम अपनी आरडब्ल्यूए की मां को कालातीत कराने की मांग करने लगें बेहद शर्मनाक।

इसलिए सभी सम्मानित सदस्यो से सादर अनुरोध है इस लोकतंत्र के मंदिर की मर्यादा को बनाए रखें और लोग लोकतंत्र में विश्वास रखते है वह सभी आमसभा में भाग लेकर रात्रि के अंधेरे में बहिष्कार करने वाले सदस्यो को दिखाएं कि हम लोकतंत्र व्यवस्था से भागते नही अपितु अपनी बात मजबूती से रखने का हौसला रखते है।

धन्यवाद

पवन यादव

उधर महासचिव के के जैन ने कहा है कि कुछ लोग सदस्यों को गुमराह कर रहे हैं। सभी सदस्य एजीएम में शामिल हों।

 5,259 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.