नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा प्राधिकरण ने कमर्शल प्लॉट का बकाया ना देने वाले बिल्डरों पर की कार्रवाई, कई प्लाट निरस्त और कई से वसूली का डिमांड नोटिस भेजा

1 min read

नोएडा 14 सितंबर.।

नोएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने कमर्शियल प्लॉट से डिफाल्टर बिल्डरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। कई प्लाट रद्द कर दिए गए हैं और कई बिल्डरों के खिलाफ रिकवरी नोटिस के लिए जिलाधिकारी को पत्र भेज दिए गए हैं।

नोएडा प्राधिकरण द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक सेक्टर 98 में प्लॉट नंबर सी 1 बी पर 350 करोड रुपए का  बकाया है। इसी तरह सेक्टर 52 में ई-1 पर 869 करोड़ 43 लाख का बकाया है। इसी तरह सी-1 सेक्टर 16 में 65.01 करोड़ बकाया है । प्लाट नम्बर 134 बी सेक्टर 61 पर 26. 98 करोड बकाया है इन सब से वसूली के लिए वसूली मांग पत्र जारी कर जिलाधिकारी को भेज दिए गए हैं ।

इसके अलावा लॉजिक ग्रुप के ए-1 बी सेक्टर 124 पर 796.49 करोड़ बकाया है ।इसी तरह प्लाट नम्बर सी 3 बी, सेक्टर 105 पर 588 करोड रुपए बकाया है यह दोनों प्लाट निरस्त कर दिए गए हैं ।नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने साफ कहा है कि डिफाल्टर के प्रति कोई नरमी नहीं बरती जाएगी 2 महीने के अंदर नोएडा प्राधिकरण ने 11 कमर्शियल प्लॉट में से 6 को निरस्त कर दिया है इन पर 1389 करोड़ बकाया है। 2020-21 में प्राधिकरण ने 9 आवंटन निरस्त किए हैं जिन पर 4905 करोड़ पर बकाया है। नोएडा प्राधिकरण की सीईओ  के सख्त तेवर से बिल्डरों में हड़कंप मचा है चिंता इस बात की भी है एक प्राधिकरण से प्लॉट लेकर और फिर प्राधिकरण का बकाया ना देकर बिल्डर ने ऐसा खेल खेला है जिसमें फिर कानूनी पचड़े में बहुत सारे आवंटित फंसेंगे। इन प्रोजेक्टों में बहुत सारे लोगों ने कमर्शियल स्पेस, दुकाने ऑफिस खरीद रखे हैं, जब प्राधिकार इन्हें निरस्त करेगा तब ऐसे आवंटियों का क्या होगा जिन्होंने इनमें निवेश किया हुआ है।

(नोएडा खबर डॉट कॉम न्यूज़ ब्यूरो )

 8,303 total views,  8 views today

1 thought on “नोएडा प्राधिकरण ने कमर्शल प्लॉट का बकाया ना देने वाले बिल्डरों पर की कार्रवाई, कई प्लाट निरस्त और कई से वसूली का डिमांड नोटिस भेजा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.