नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने पर्थला फ्लाईओवर 30 जून तक पूरा करने का दिया लक्ष्य, कई प्रोजेक्ट में देरी पर पेनल्टी लगाई

1 min read

 

-शनि मंदिर पर गौशाला का कार्य 30 मार्च तक पूरा करने का निर्देश, देरी पर 10 लाख की पेनल्टी

-नोएडा प्राधिकरण के प्रशासनिक कार्यालय निर्माण में देरी पर नाराज, निर्माण कर रही कंपनी को दिया लक्ष्य वरना ब्लैक लिस्ट करने की चेतावनी

नोएडा, 22 मार्च।

नौएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्रीमती रितु माहेश्वरी जी द्वारा मंगलवार को नौएडा के विभिन्न प्रोजेक्ट से जुड़े स्थलों का भ्रमण किया गया। पूर्व में किये गये भ्रमण के दौरान दिये गये निर्देशानुसार आज के भ्रमण कार्यक्रम में सिविल के साथ-साथ उद्यानीकरण, जनस्वास्थ्य, जल / सीवर, बी.ओ.टी. आदि कार्यों की भी समीक्षा की गई तथा नौएडा क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों का निरीक्षण किया गया । स्वच्छ सर्वेक्षण के दृष्टिगत नौएडा में चल रहे सफाई सौन्दर्यीकरण कार्यों की समीक्षा भी की गई तथा कार्यों में तीव्रता लाने एवं गुणवत्ता सम्बन्धी निर्देश दिये गये।

सर्वप्रथम सैक्टर-14ए में शनि मन्दिर के समीप निर्माणाधीन गौशाला का निरीक्षण किया गया, जहाँ गौशाला का निर्माण कार्य लगभग पूर्ण परन्तु फिनिशिंग कार्य प्रगतिरत पाया गया। इस सम्बन्ध में सम्बन्धित को गौशाला के समस्त अवशेष फिनिशिंग कार्य प्रत्येक दशा में 30 मार्च तक पूर्ण कराने के निर्देश दिये गये। गौशाला के कार्य की गुणवत्ता बढ़ाये जाने जाने हेतु वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल-1 को चेतावनी जारी करने तथा संविदाकार पर रु0 10 लाख की पेनल्टी अधिरोपित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया। इसके अतिरिक्त 30 मार्च तक कार्य पूर्ण न किये जाने की दशा में वरिष्ठ प्रबन्धक को प्रतिकूल प्रविष्टि एवं संविदाकार पर रु0 10 लाख की अतिरिक्त पेनल्टी लगाने हेतु निर्देशित किया गया। इसके अतिरिक्त परियोजना के संचालन हेतु निविदा शीघ्र आमंत्रित किये जाने हेतु जनस्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया। साथ ही उद्यानीकरण कार्य भी प्रारम्भ करने हेतु उद्यान विभाग को निर्देशित किया गया।

तदोपरान्त गौशाला से वापस सैक्टर-14ए आकर एक्सप्रेस-वे होते हुए महामायाफ्लाईओवर के चारों लूप का निरीक्षण किया गया एवं आवश्यकतानुसार सभी लूपों की मरम्मत कराने हेतु निर्देश दिये गये। महामाया फ्लाईओवर के निरीक्षणोपरान्त सैक्टर-44 गोल चक्कर होते हुए सैक्टर-96 पहुँचकर निर्माणाधीन प्रशासनिक भवन के कार्य का निरीक्षण किया गया, जहाँ प्रशासनिक भवन की प्रगति धीमी पाई गई। इस सम्बन्ध में निर्देशित किया गया कि सम्बन्धित वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल-1 एवं सम्बन्धित संविदाकार को चेतावनी जारी की जाये। साथ ही सम्बन्धित वर्क सर्किल द्वारा यह सुनिश्चित कर लिया जाये कि संविदाकार द्वारा अगस्त तक उक्त कार्य पूर्ण करने में समर्थ है अथवा नहीं। अन्यथा की दशा में सम्बन्धित संविदाकार को ब्लैकलिस्ट किये जाने की कार्यवाही की जाये। इसके अतिरिक्त परियोजना के निर्माण कार्य में श्रमिकों की संख्या बढ़ाते हुए प्रदत्त समयवृद्धि के अन्तर्गत गुणवत्ता के साथ प्रत्येक दशा में कार्य पूर्ण कराने के निर्देश दिये गये।सैक्टर-45 के समीप महामाया फ्लाईओवर के लूप के समीप कुछ ठेला वेन्डर्स द्वारा अतिक्रमण किया हुआ पाया गया, जिसको तत्काल हटवाने हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया गया।

एम.पी.-3 मार्ग के माध्यम से सैक्टर-37 होते हुए शशि चौक गोल चक्कर तक का मार्ग भ्रमण किया गया। तत्पश्चात निठारी रोड एवं शशि चौक गोल चक्कर होते हुए सैक्टर-39 40 41 आदि मार्गों का निरीक्षण किया गया। उक्त मार्गों के निरीक्षणोपरान्त अगाहपुर मार्ग पर सिटी सेन्टर अण्डरपास एवं सैक्टर-50 व 51 के मध्य मार्ग होते हुए मानव रचना स्कूल होते हुए रोड नं० 6 रोड तक का मार्ग का निरीक्षण किया गया, जहाँ • विभिन्न स्थलों पर सम्बन्धित वर्क सर्किल द्वारा पेन्टिंग का कार्य प्रगतिरत पाया गया। इस सम्बन्ध में सम्बन्धित को निर्देशित किया गया कि समस्त अवशेष पेन्टिंग कार्य 1 सप्ताह में गुणवत्ता सहित पूर्ण कराने के निर्देश दिये गये। इसके अतिरिक्त 75 मी० चौड़े मार्ग पर हनुमान मूर्ति के समीप सड़क क्षतिग्रस्त पाई गई, जिसके तत्काल अनुरक्षण हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया गया।उक्त मार्गों के निरीक्षण के उपरान्त रोड नं0 6 पर सैक्टर-71, 72 एवं 51 52 क्रॉसिंग तक का निरीक्षण एवं तत्पश्चात सैक्टर-71 से दायें मुड़कर एम. पी.-3 मार्ग का निरीक्षण किया गया। एम.पी.-3 मार्ग पर ग्राम बसई में एक वाणिज्यिक भवन का प्रथम तल का अवैध निर्माण होता पाया गया, जिसको तत्काल रुकवाने हेतु निर्देश दिये गये। अन्यथा की दशा में वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल-5 के विरुद्ध नियामानुसार आवश्यक कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये गये।

एम.पी.-3 मार्ग पर पर्थला चौक पर निर्माणाधीन फ्लाईओवर के कार्य का निरीक्षण किया गया, जिसको नियत समय में गुणवत्तापरक रूप से पूर्ण करने हेतु निर्देशित किया गया। साथ ही परियोजना के कार्य सम्पादन में सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिये जाने हेतु निर्देशित किया गया। परियोजना से सम्बन्धित अधिकारियों द्वारा संज्ञानित कराया गया कि सभी 52 पाईल एवं सभी 6 पाईल कैपों का कार्य पूर्ण हो चुका है तथा 4 पियर तथा 2 पियर कैप का कार्य पूर्ण सभी 784 नग प्रीकास्ट बैरियर की कास्टिंग पूर्ण 255 मी0 में सर्विस रोड के चौड़ीकरण कार्य पूर्ण। दोनों पाईलोनों की 49.066 मी० के सापेक्ष 34.70 मी० तक कास्टिंग पूर्ण तथा शेष प्रगतिरत है। ग्रेटर नौएडा की ओर आर.ई. वॉल पैनल काकार्य प्रगतिरत है, जिसमें 7732 वर्गमी0 के सापेक्ष 7732 वर्गमी० कार्य हो चुका है। ग्रेटर नौएडा से पर्थला की ओर रैम्प का कार्य 80 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है। परियोजना की सम्पूर्ण प्रगति 44 प्रतिशत अवगत कराई गई। इस सम्बन्ध में परियोजना के पाईलोन का कार्य 15 अप्रैल तक तथा स्लैब का कार्य 15 मई तक पूर्ण करते हुए सम्पूर्ण परियोजना का कार्य जून माह के अन्त तक पूर्ण करने हेतु निर्देशित किया गया। उल्लेखनीय है कि कि उक्त फ्लाईओवर के निर्माण से नौएडा के विभिन्न सैक्टरों के निवासियों को यातायात में काफी सुगमता होगी। दिल्ली, सरिता विहार से गाजियाबाद, हापुड़ व ग्रेटर नौएडा वेस्ट को जाने के लिए सिग्नल-फ्री यातायात मिल सकेगा। ग्रेटर नौएडा वेस्ट में रहने वाले कई लाख लोगों को आवागमन की सुविधा मिलेगी, जिससे 25 से 30 मिनट की बचत होने केसाथ-साथ जाम के कारण उत्सर्जित होने वाले प्रदूषण को भी अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रित किया जा सकेगा।

पर्थला फ्लाईओवर के निरीक्षण के उपरान्त बिसरख के निर्माणाधीन एप्रोच रोड का निर्माण कार्य का निरीक्षण किया गया, जहाँ पाया गया कि एप्रोच रोड की एक तरफ का कार्य पूर्ण हो चुका है। अवशेष दूसरी तरफ का कार्य भी माह मई तक गुणवत्ता के साथ पूर्ण कराने हेतु निर्देशित किया गया। इसके अतिरिक्त विभिन्न स्थलों पर अवशेष अनुरक्षण कार्यों को नियमित रूप से सम्पादित कराने हेतु निर्देशित किया गया।

बिसरख पुल के निरीक्षणोपरान्त वर्क सर्किल-7 के क्षेत्र में सैक्टर-79 से प्रवेश करते हुए सैमसंग कम्पनी रोड, सैक्टर 80 व 81 तथा फेस ।। के मध्य 60.00मी0 चौडी सडक, डी०एस०सी० मार्ग, फूल मण्डी आदि होते हुए डी०एस०सी० मार्ग सैक्टर 88 एवं हॉजरी कॉम्प्लैक्स के सम्मुख एन०एस०ई०जेड0 मैट्रो स्टेशन तक मार्ग का भ्रमण किया गया। तत्पश्चात सैक्टर-88 में वेन्डिंग जोन एवं पिन्क वेन्डिंग जोन का निरीक्षण किया गया। वेन्डिंग जोन में डस्टविन कम पाये जाने पर डस्टबिन की संख्या बढाने हेतु निर्देशितकिया गया। साथ ही सैक्टर-80 में अडानी ग्रुप को आवंटित 06 भूखण्डों में हुये अतिक्रमण को हटाने के निर्देश दिये गये, जहाँ सर्विस रोड, सेण्ट्रल वर्ज, फुटपाथ, पटरी ड्रेसिंग के कार्यों का निरीक्षण किया गया।

हॉजरी कॉम्प्लैक्स के समानान्तर डी. एस. सी. मार्ग पर निर्मित ग्रीन बेल्ट में कुछ लोगों द्वारा झुग्गियाँ डालकर अतिक्रमण किया हुआ पाया गया, जिसके सम्बन्ध में सम्बन्धित उप निदेशकों को विशेष अभियान चलाकर 5 दिनों के अन्दर अतिक्रमण हटवाने एवं उक्त आशय का प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराने हेतु निर्देशित किया गया।

तदोपरान्त सैक्टर-83 में निरीक्षण किया गया, जहाँ सैक्टर-83 में जल विभाग द्वारा निर्मित ओवरहैड टैंक की पेन्टिंग कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया। तत्पश्चात सिंचाई नाला पार कर सैक्टर-83-82, 91-92 क्रॉसिंग तक एवं उसके बाद मुड़कर सैक्टर-90-137 गोलचक्कर होते हुए सैक्टर-91 वेटलैण्ड का निरीक्षण किया। वेटलैण्ड, सैक्टर-91 के सिविल विद्युत एवं उद्यानीकरण सम्बन्धी समस्त कार्य 30 मार्च तक पूर्ण कराने हेतु वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल-8 को चेतावनी जारी करने तथा संविदाकार पररु0 10 लाख की पेनल्टी अधिरोपित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया। इसके अतिरिक्त 30 मार्च तक कार्य पूर्ण न किये जाने की दशा में वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल-8 को प्रतिकूल प्रविष्टि एवं संविदाकार पर रु0 10 लाख की अतिरिक्त पेनल्टी लगाने हेतु निर्देशित किया गया।

कालिन्दी कुंज के समीप निर्माणाधीन प्रवेश द्वार का कार्य 30 मार्च तक पूर्ण कराने हेतु वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल – 2 को चेतावनी जारी करने तथा संविदाकार पर रु0 10 लाख की पेनल्टी अधिरोपित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया। इसके अतिरिक्त 30 मार्च तक कार्य पूर्ण न किये जाने की दशा में वरिष्ठ प्रबन्धक, वर्क सर्किल-2 को प्रतिकूलप्रविष्टि एवं संविदाकार पर रु0 10 लाख की अतिरिक्त पेनल्टी लगाने हेतु निर्देशित किया गया।

इसके बाद एक्सप्रेस-वे के टी-जंक्शन तक का मार्ग का भ्रमण किया गया। सैक्टर-93ए में सिटी पार्क से एल्डिको चौराहे तक सेन्ट्रल वर्ज पर पेन्टिंग का कार्य यथाशीघ्र कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया। एक्सप्रेस-वे के समानान्तर मार्ग से होते हुए सैक्टर-100 व 101 के मध्य से गुजरते हुए रोड नं0 6 का भ्रमण करते हुए सैक्टर-61 के साईं मन्दिर से बायें मुड़कर सैक्टर-61 व 53 के मध्य मार्ग का भ्रमण किया गया। सैक्टर-53 में ओवरहैड वाटर टैंक को पेन्ट कराने हेतु निर्देशित किया गया।

सैक्टर-61 व 53 के मध्य मार्ग होते हुए एम.पी.-2 एलिवेटेड रोड के नीचे से सैक्टर-54 व 60, 58, 57 के मध्य कोण्डली मार्ग का निरीक्षण एवं तदोपरान्त सैक्टर-22, 55 व 54,57 के चौराहे से होते हुए सैक्टर-54 स्थित वेटलैण्ड का निरीक्षण किया गया। सैक्टर-54 वेटलैण्ड में घास एवं पौधारोपण बढ़ाने हेतु उद्यान विभाग को निर्देशित किया गया। साथ ही वेटलैण्ड, सैक्टर-54 में बड़े आकार के झूले लगाने एवंफाउण्टेन लगाने हेतु उद्यान विभाग को निर्देशित किया गया।

वेटलैण्ड, सैक्टर-54 के गेट के समीप पुलिस विभाग द्वारा जब्त की गई पुरानी गाड़ियाँ खड़ी पाई गई, जिनको उक्त स्थल से हटाने की कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देशित किया गया साथ ही सैक्टर-54 के पैरलल निर्मित रोड एवं नाले की दीवार के मध्य क्षेत्र की ड्रेसिंग कराते हुए घास लगवाने हेतु निर्देशित किया गया।

वेटलैण्ड, सैक्टर-54 के निरीक्षण के उपरान्त गिझोड़ रोड का भ्रमण करते हुए। सैक्टर-52 में आन्तरिक मार्गों का निरीक्षण करते हुए वापस गिझोड़ रोड पर आकर निरीक्षण किया गया, जहाँ सैक्टर-34,33 व गिझोड़ टी-प्वाईंट के समीप स्थित खाली भूखण्ड की सफाई कराते हुए भू-लेख विभाग से समन्वय स्थापित करते हुए उक्त भूखण्ड का विवरण पत्रावली पर उपलब्ध कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया।

तदोपरान्त सैक्टर-33-34, 33ए-35 के मध्य मार्ग होते हुए सैक्टर-33ए में निर्माणाधीन शिवालिक पार्क का निरीक्षण किया गया, जहाँ पर स्थापित किये गये झूले छोटे पाये गये, जिनके स्थान पर बड़े झूले स्थापित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया। इसकेअतिरिक्त पार्क में लगे फाउन्टेन के फोकस प्वॉईंट लगाये जाने हेतु उद्यान विभाग को निर्देशित किया गया। इसके अतिरिक्त शिवालिक पार्क के Concept में सुधार कराये जाने के निर्देश दिये गये।

सैक्टर-54 वेटलैण्ड एवं शिवालिक पार्क, सैक्टर-33ए दोनों के समस्त कार्य 30 मार्च तक पूर्ण करने, पार्को के Backside में बैरिकैडिंग करने एवं अतिरिक्त कॉन्सेप्ट बोर्ड एवं बेन्च स्थापित करने हेतु उद्यान विभाग को निर्देश दिये गये।

निरीक्षण के दौरान विभिन्न स्थानों पर सड़कें धूल से भरी हुई पाई गई साथ ही विभिन्न स्थानों पर पत्ते टूटकर बिखरे हुए पाये गये, जिनकी नियमित सफाई किये जानेहेतु जनस्वास्थ्य विभाग एवं उद्यान विभाग को संयुक्त कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया। साथ ही उद्यान विभाग द्वारा इन पत्तों के वेस्ट को रिसाइकिल किये जाने हेतु प्रक्रिया का निर्धारण करने की कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देश दिये गये।

जल विभाग द्वारा निर्मित विभिन्न वाटर टैंकों एवं भवनों को प्राथमिकता पर पेन्टिंग कराये जाने हेतु निर्देश दिये गये।

नौएडा-ग्रेटर नौएडा एक्सप्रेस-वे पर निर्माणाधीन 3 अण्डरपासों की दीवार पर थीम पेन्टिंग कराये जाने हेतु निर्देश निर्गत किये गये

विभिन्न स्थलों पर विशेषकर वर्क सर्किल- 3, 5 व 8 के क्षेत्र में कुछ मार्गों पर सेन्ट्रल वर्ज के कार्य अधूरे पाये गये, जिनको 30 मार्च तक पूर्ण कराने हेतु निर्देशित किया गया।

नौएडा-ग्रेटर नौएडा एक्सप्रेस-वे पर 2.36 अण्डरपास की प्रगति अपेक्षाकृत सन्तोषजनक नहीं पाई गई। इसके अतिरिक्त कार्य की प्रगति न बढ़ाने के कारणसंविदाकार पर रु0 10 लाख की पेनल्टी भी लगाई, तदोपरान्त भी कार्य की प्रगति अपेक्षाकृत नहीं पाये जाने के दृष्टिगत अण्डरपास के संविदाकार को ब्लैकलिस्ट करने की कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देशित किया गया।

 4,609 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.