नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा शहर को प्लास्टिक मुक्त करने की मुहिम, नोएडा प्राधिकरण व एचसीएल फाउंडेशन का अनूठा अभियान

1 min read

नोएडा, 22 मई।

हमारे जीवन में प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों से कोई इनकार नहीं कर सकता है, फिर भी हम में से अधिकतर लोगों ने अपने दैनिक जीवन में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग करना छोड़ा नहीं है। सरकार ने जुलाई, 2022 से सिंगल प्लास्टिक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध की तैयारी की है। नोएडा प्राधिकरण शहर को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए काम कर रहा है। सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्राधिकरण शहर में विभिन्न फाउंडेशनों के साथ काम कर रहा है। अपने प्रयासों से नोएडा ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में भारत के सबसे स्वच्छ मध्यम श्रेणी के शहर (3-10 लाख आबादी) के रूप में पहला स्थान हासिल किया।

एचसीएल फाउंडेशन अपने मजबूत प्रयासों के माध्यम से इस अभियान में सहयोग कर रहा है। फाउंडेशन ने 2019 में स्वच्छ नोएडा परियोजना शुरू की और इसके संचालन के पिछले तीन वर्षों में कई उपलब्धियां हासिल की हैं, इनमें से कुछ हैं नियोजित भित्तिचित्र, डंप साइट्स की सफाई, कचरे को अलग अलग कर छांटने के बारे में जनता को शिक्षित किया है , उन्हे जैव खाद के बारे में जागरूक किया है।

फाउंडेशन ने अब सिंगल यूज प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में जागरूकता लाने के लिए प्लास्टिक हीस्ट नामक अभियान की शुरूआत की है। यह अभियान जनता, मुख्य रूप से दुकानदारों को प्लास्टिक के जिम्मेदार उपयोग और जहरीले, गैर बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक से भरे हुए लैंडफिल के खतरों के बारे में शिक्षित करेगा और लोगों को रीसाइक्लिंग कचरे, प्लास्टिक बैग और माइक्रो प्लास्टिक कचरे का बहिष्कार करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। अभियान छह महीने तक जारी रहेगा और इस पहल के माध्यम से एचसीएल फाउंडेशन अनौपचारिक डंप साइटों से काफी मात्रा में कचरे को डायवर्ट करेगा।

“नागरिक भागीदारी स्वच्छ सर्वेक्षण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। प्लास्टिक हीस्ट हमारे सामाजिक प्रयोग का हिस्सा है, जो प्लास्टिक को न कहने के संदेश और शहर में एक स्थायी बदलाव को प्रोत्साहित करने के लिए मज़ेदार तरीके से नागरिकों के साथ जुड़ता है,

“अभिषेक सैनी, संस्थापक, दोज़ इन नीड, एचसीएल फाउंडेशन के कार्यान्वयन भागीदार।

यह अभियान 7 और 8 मई को नोएडा के 5 बाजारों- सेक्टर 18, ब्रह्मपुत्र बाजार, गंगा बाजार, गोदावरी बाजार और सेक्टर 50 बाजार में शुरू किया गया था; जिसमें नुक्कड़ नाटक और घर-घर जाकर प्रचार किया गया। सैकड़ों लोग नुक्कड़ नाटक देखने के लिए एकत्र हुए. जिसे खूबसूरती से तैयार किया गया था और इसमें प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में बताया गया था।प्लास्टिक हीस्ट टीम ने नोएडा प्राधिकरण के कर्मचारियों के साथ मिलकर बाजारों से प्लास्टिक की थैलियों, प्लास्टिक स्ट्री और अन्य प्लास्टिक की वस्तुओं को जब्त कर लिया और प्लास्टिक की खपत को कम करने के तरीके सुझाने के लिए नागरिकों से सुझाव मांगे। इस अभियान का उद्देश्य इन बाजारों में दुकानदारों को प्लास्टिक का उपयोग बंद करने के लिए प्रोत्साहित करना है। एचसीएल फाउंडेशन और नोएडा प्राधिकरण और जमीन, पानी या हवा में जलाए या छोड़े बिना जिम्मेदार उत्पादन, उपभोग, दोबारा इस्तेमाल और प्रोडक्ट की रिकवरी, पैकेजिंग और सामग्रियों के माध्यम से पर्यावरण पर हानिकारक प्रभाव को कम करने की दिशा में काम करने हेतु सतत व्यवसाय के तौर पर कारोबार मालिकों को चिह्नित करेगा।

एक कॉलेज की स्टूडेंट राधिका ने कहा “मैं आमतौर पर अपने दोस्तों के साथ इस बाज़ार में आती हूँ और इस तरह के आकर्षक नुक्कड़ नाटक और सामाजिक संदेश को देखकर बहुत खुश होती हूँ। यहां खाने की छोटे-छोटे दुकान हैं जो स्ट्रॉ और प्लास्टिक के कप का उपयोग करते हैं और मुझे यकीन है कि यह एक अधिक बायोडिग्रेडेबल बदलाव के प्रति जागरूकता लाएगा। यह अभियान एचसीएल फाउंडेशन की पिछली सफलता की शुरुआत है और उससे आगे निकलेगा, हमें उम्मीद है कि यह अभियान एक सकारात्मक और बहुत आवश्यक स्वच्छ बदलाव लाएगा।

 3,167 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.