नोएडा खबर

खबर सच के साथ

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में बोले उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़, पर्सन ऑफ एक्शन के प्रतीक बन चुके हैं योगी आदित्यनाथ

1 min read

– गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए उप राष्ट्रपति

– उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा, राजनीतिज्ञ ही नहीं, दूरदृष्टा, धर्मवेत्ता और स्टेट्समैन हैं योगी आदित्यनाथ

– बोले, पूरी दुनिया में लॉ एंड ऑर्डर का रोल मॉडल बन चुका है यूपी

गौतम बुद्ध नगर, 24 दिसंबर।

मेरे लिये वो एक सुखद दिन था जब मुझसे कहा गया कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आपसे बात करना चाहते हैं। मुख्यमंत्री ने सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में नाम हासिल किया है। योगी आदित्यनाथ आज पर्सन ऑफ एक्शन के प्रतीक बन चुके हैं। हम सब जानते हैं कि यूपी में पहले क्या हालात थे। कानून व्यवस्था और विकास की दृष्टि से ये प्रदेश सबकी चिंता का विषय था। मगर आज यूपी देश ही नहीं दुनिया में लॉ एंड ऑर्डर को लेकर रोल मॉडल बन चुका है। ये बातें रविवार को उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के दौरान कही।

यूपी आज प्रिमियम कैटेगरी के उद्योगों का फेवरेट डेस्टिनेशन

बतौर मुख्य अतिथि दीक्षांत समारोह में पहुंचे जगदीप धनखड़ ने कहा कि लंबे समय तक वकालत के पेशे में रहने के कारण उनका उद्योग जगत से गहरा नाता रहा है और उन्हें ये बात कहने में खुशी होती है कि यूपी आज प्रिमियम कैटेगरी के उद्योगों के लिए फेवरेट डेस्टिनेशन बन चुका है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल का गर्वनर रहने के दौरान वह तीन दर्जन स्टेट विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति थे, मगर वहां चांसलर के साथ क्या होता है, सब जानते हैं। उन्होंने कहा कि गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह सबसे अलग है।

मुख्यमंत्री से प्रेरणा लें विद्यार्थी

उप राष्ट्रपति ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि दीक्षांत समारोह में वो जो कहना चाहते थे उसे मुख्यमंत्री ने उनसे भी बेहतर ढंग से कहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का भाषण किसी राजनीतिक व्यक्ति का नहीं बल्कि एक धर्मवेत्ता, एक स्टेट्समैन, एक शिक्षाविद और दूरदृष्टा व्यक्ति का भाषण था। उप राष्ट्रपति ने मुख्यमंत्री के भाषणों को केवल भाषण नहीं बल्कि सीएम योगी के वर्तमान कार्यकलापों की झलक बताया। उन्होंने कहा कि एग्जाम्पल हमेशा स्टेटमेंट से बेहतर होता है। मुख्यमंत्री का भाषण वर्तमान में उनके शासनकाल में दिखता है। योगी आदित्यनाथ आज पर्सन ऑफ एक्शन के प्रतीक बन चुके हैं। आप सभी को इनसे प्रेरणा लेनी चाहिए। उप राष्ट्रपति ने प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर कहा कि पहले कुछ लोगों को लगता था कि ‘कानून उनका क्या कर लेगा’ या ‘कानून हमारी मुट्ठी में है’, मगर आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में यहां कानून का शासन है। कोई कितना ही बड़ा क्यों न हो कानून के प्रति सबकी जवाबदेही है।

उप राष्ट्रपति ने गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय को नालंदा और तक्षशिला विश्वविद्यालयों के स्तर तक पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री से मांग भी की साथ ही ये विश्वास भी जताया कि उनकी मांग को मुख्यमंत्री के नेतृत्व में शत प्रतिशत पूरा किया जाएगा।

चाणक्य नीति अपनाकर भ्रष्टाचारियों को जड़ से नष्ट कर दिया गया है

उन्होंने विद्यार्थियों से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, क्वांटम कम्प्यूटिंग में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया और कहा कि आने वाले समय में भारत तकनीकी का हब बनने जा रहा है। उप राष्ट्रपति ने कॉर्पोरेट सेक्टर से देश के शिक्षण संस्थाओं में निवेश के लिए कहा। उन्होंने कहा कि डिफेंस प्रोडक्शन के मामले में उत्तर प्रदेश बड़ा हब बनने की राह पर है। उन्होंने विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को नए संसद भवन आने का निमंत्रण भी दिया। साथ ही उपाधि प्राप्त करने वाले विद्याथियों से आह्वान किया कि वे नेशन फर्स्ट की भावना के साथ अपनी जिंदगी में आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि भारत के हालात आज पूरी तरह से बदल चुके हैं। पहले यहां बिना करप्शन को सलाम किये कोई काम नहीं होता था। आज चाणक्य नीति अपनाकर भ्रष्टाचारियों को जड़ से नष्ट कर दिया गया है। आज आपके लिए ऐसा ईको सिस्टम बन चुका है जहां उन्नति के द्वार आपके इंतजार में खुले हुए हैं।

मुट्ठीभर लोग भारत की छवि को धूमिल करने में लगे हैं

उप राष्ट्रपति ने अपने भाषण के जरिए यह भी कहा कि मुझे दु:ख होता है जब हमारा एक संसद सदस्य हार्वर्ड में जाकर कहता है कि भारत में लोकतंत्र को खतरा है। जबकि भारत दुनिया का अकेला देश है जहां गांव से लेकर संसद तक लोकतंत्र कायम है। आज जब भारत ऊपर जा रहा है तो कुछ मुट्ठीभर लोग इसे धूमिल करने के प्रयास में लगे हुए हैं। ऐसे समय में देश के युवा साथियों को चुप्पी नहीं साधनी चाहिए।

 58,268 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.