नोएडा खबर

खबर सच के साथ

-एमिटी और पुलिस आयुक्तालय के डब्लूसीएसयू के मध्य एमओयू पर हुआ हस्ताक्षर

नोएडा, 8 जनवरी।

पारिवारिक विवादो के निवारण हेतु पारिवारिक विवाद समाधान क्लिनिंक स्थापित करने के उददेश्य से सोमवार को एमिटी विश्वविद्यालय और गौतमबुद्ध नगर पुलिस के महिला व बाल सुरक्षा सेल के मध्य एक महत्वपूर्ण समझौता पर हस्ताक्षर किया गया। इस समझौता पत्र पर गौतमबुद्धनगर की पुलिस कमिश्नर श्रीमती लक्ष्मी सिंह और एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा बलविंदर शुक्ला की उपस्थिति में एमिटी विश्वविद्यालय उत्तरप्रदेश के कार्यवाहक कुलसचिव प्रो आर के कपूर और गौतमबुद्ध नगर पुलिस के महिला व बाल सुरक्षा सेल के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस श्री रविशंकर निम ने हस्ताक्षर किये।

इस समझौता पत्र के अंर्तगत घरेलू विवादों के निवारण के लिए सेक्टर 108 पुलिस आयुक्तालय में पारिवारिक विवाद समाधान क्लिनिक की स्थापना की गई है जिसमें पारिवारिक विवादों को परामर्श एंव मध्यस्थता के माध्यम से हल किया जायेगा। इसमें एमिटी लॉ स्कूल, एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ साइकोलॉजी एंड एलाइड सांइसेस और एमिटी सेंटर फॉर गाइडेंस एंड कांउसिल के विशेषज्ञों द्वारा निशुल्क सेवाये प्रदान की जायेगी।

गौतमबुद्धनगर की पुलिस कमिश्नर श्रीमती लक्ष्मी सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि पुलिस कमिश्नरेट ने पहल करते हुए एमिटी विश्वविद्यालय के तत्वाधान में पारिवारिक विवाद समाधान क्लिनिक की स्थापना की गई है। इसका उददेश्य माननीय उच्चतम न्यायालय के दिशानिर्देशानुसार द्वारा पारिवारिक विवादो ंके निवारण हेतु परामर्श प्रदान करना और मध्यस्थता कराना है चुकिं हम इसमें एमिटी के मनोविज्ञान विशेषज्ञों को भी जोड़ रहे है इससे मध्यस्थता की गुणवत्ता में सुधार आयेगा और विवादों को पूर्ण निवारण होने की दिशा में हमारे कदम बढ़ेगे। पुलिस पारिवारिक विवाद के मामलों को बहुत अलग तरीके से निपटाती है क्योकी पीडित केद्रित होने के कारण पुलिस को दायरा बढ़ाने का अवसर प्राप्त नही होता और वे पीड़ितों की मानसिकता को कम समझ पाते है ऐसे मामलों में निपटने के लिए हमें पेशेवरों की मदद की जरूरत है जो अधिक बेहतर तरीके से परमार्श प्रदान कर सकते है। महिलाओं के खिलाफ अपराध को समाज द्वारा व्यापक रूप से स्वीकार किया गया है और पीड़ितों और अपराधियों के बीच पेशवरों को शामिल करने की आवश्यकता है इसके अतिरिक्त इन मामलों को एक अलग दृष्टिकोण से निपटने के लिए विशेषज्ञों की आवश्यकता है। इसके अगले चरण में हमारे जो बलात्कार पीड़िताएं है और उनके परिवार के लोग आयेगें उन्हे परामर्श और मार्गदर्शन प्रदान करेगे क्योकि ऐसे मामलों में धैर्य और मनोवैज्ञानिक मन को पढ़ने की क्षमता बहुत महत्वपूर्ण है। हम एमिटी के आभारी है क्योकी एमिटी अपने पाठयक्रम से आगे निकलकर, विशेषज्ञो ने अपने प्रयास और गुणवत्तापूर्ण घंटे पुलिस को समर्पित किये है। श्रीमती सिंह ने कहा कि आने वाले समय मे ंनोएडा में पारिवारिक विवाद समाधान क्लिनिक के माध्यम से घेरलू हिंसा व विवाद जैसे समस्याओं को और भी बेहतर ढंग से निपटाने में सहायता प्राप्त होगी।

एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा बलविंदर शुक्ला ने कहा कि एमिटी सदैव छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षण प्रदान करने के साथ अपने समाजिक कर्तव्य का निवृहन भी करता है इसी क्रम में गौतमबुद्धनगर पुलिस के साथ इस पारिवारिक विवाद समाधान क्लिनिक मे ंहमारे विशेषज्ञ निशुल्क परामर्श सेवाये प्रदान करेगें। डा शुक्ला ने कहा कि एमिटी ने मानवीय मूल्यों और सामुदायिक आउटरिच पर एक पाठयक्रम प्रारंभ किया है जो सभी छात्रों के लिए अनिवार्य है।

इस अवसर पर गौतमबुद्धनगर के अन्य पुलिस अधिकारीयों सहित एमिटी लॉ स्कूल के चेयरमैन डा डी के बंद्योपाध्याय, एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ साइकोलॉजी एंड एलाइड सांइस की एक्टिंग निदेशक डा रंजना भाटिया, एमिटी लॉ स्कूल की एडिशनल डायरेक्टर डा शेफाली रायजादा उपस्थित थी।

 

 14,645 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.