नोएडा खबर

खबर सच के साथ

एनईए ने उद्योग मंत्री नन्दी से मिलकर औद्योगिक भूखण्डों की ऑक्शन नीति का विरोध किया, किरायेदारी नीति पर भी सवाल

1 min read

नोएडा, 6 सितम्बर।

नौएडा एन्ट्रेप्रिनियोर्स एसोसिएशन का एक प्रतिनिधिमण्डल अध्यक्ष श्री विपिन कुमार मल्हन जी के नेतृत्व में श्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी जी आद्यौगिक विकास, निर्यात प्रोत्साहन एवं एन.आर.आई, निवेश प्रोत्साहन मंत्री, उ0प्र0 सरकार से कलैक्ट्रेट सूरजपुर स्थित सभागार में मिला तथा मंत्री महोदय को पुष्प भेंट कर उनका स्वागत किया।

श्री विपिन कुमार मल्हन ने उद्योग मंत्री को बताया कि विगत कुछ वर्षो से भारतीय जनता पार्टी सरकार की यहाँ के उद्योगों के प्रति बहुत सकारात्मक सोच रही है परन्तु अधिकारियों द्वारा जो नीति बनाई जाती है उसमें उद्योगों के प्रति नकारात्मक रवैया अपनाया जा रहा है। आज अगर कोई प्रा०लि० कम्पनी में डायरेक्टर / शेयर होल्डिंग बदलनी हो तो नोएडा प्राधिकरण उसके चार्ज लेता है और स्टांप विभाग भी चार्ज लेता है। भारत सरकार के कम्पनी निगमित मामलों के नियमों के अनुसार भी यदि किसी कम्पनी के शेयर होल्डर / डायरेक्टर बदलते है तब भी उस कम्पनी की संरचना पर कोई असर नही होता है कम्पनी एक ही बार बनाई जाती है जिसमें आवश्यकतानुसार शेयर होल्डर्स बदलते रहते हैं। कृप्या इस मामले को संज्ञान में लेकर उचित निर्णय लेने की कृपा करें।

आज नौएडा, ग्रेटर नौएडा यमुना में अगर किसी ने अपना उद्योग लगाना है तो इन प्राधिकरणों द्वारा जो सम्पत्तियां लीज पर दी जाती है उस पर बोली लगाने का प्रावधान कर दिया है। उद्योग लगाने के लिए हमेशा सरकार ऐसी जमीन देती है जहाँ पर कम से कम पैसा जमीन पर लगे और उद्योगपति अपनी पूजी का निवेश उद्योग चलाने पर करे। यदि सारा पैसा ही जमीन पर लग जाएगा तो उद्योग क्या चलायेगा ।

नौएडा प्राधिकरण द्वारा सभी सम्पत्तियां 90 वर्ष की लीज पर दी जाती है जिसका हम लीज रेंट देते है चाहे वन टाईम लीज रेंट के रूप में दें चाहे प्रत्येक वर्ष दें किसी कारण से अगर हम अपना उद्योग चलाने में असफल हो जाए तो हम उस बिल्डिंग / भूखंड को किराये पर देकर अपनी आजीविका चलाते हैं। नौएडा प्राधिकरण द्वारा यदि हम अपने औद्योगिक परिसर पर किरायेदार रखते हैं उस पर प्राधिकरण द्वारा प्रति वर्ग फीट के रूप में अपना किराया अनुबन्ध लेना शुरू कर दिया है जोकि यह सकारात्मक रवैया नजर नही आता कृप्या इस पर विचार करें।

औद्योगिक क्षेत्र में औद्यौगिक संगठन बने हुए हैं तो प्राधिकरण कोई भी नीति लेकर आता है उससे पहले जो यहाँ पर औद्योगिक संगठन है उनके साथ बैठक कर विचार विमर्श कर लिया जाए ताकि ये नीतियां भविष्य में उद्योगों के लिए ठीक रहेंगी या नही बंद कमरे में बैठक कर यदि अधिकारी कुछ भी अपने विवेक से नीति बनाकर पास कर देगें और भविष्य में उन नीतियों से उद्योगों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा तो उसका जिम्मेदार कौन होगा। कृप्या इस पर भी अपना मार्गदर्शन देने की कृपा करें ।

उपरोक्त समस्याओं को सुनने के पश्चात् मंत्री महोदय द्वारा आश्वासन दिया गया कि संबंधित विभागों के अधिकारियो के साथ विचार-विमर्श कर उचित निर्णय लिया जाएगा ।

प्रतिनिधिमण्डल में एनईए अध्यक्ष श्री विपिन कुमार मल्हन, महासचिव श्री वी०के०सेठ, सह कोषाध्यक्ष सुश्री नीरू शर्मा, सचिव श्री राहुल नैययर शामिल थे।

 6,814 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.