नोएडा खबर

खबर सच के साथ

मुख्य मंत्री योगी से मिले शोर भूमि को लेकर शासन के फैसले से लाभान्वित जेवर के किसान, जताया आभार

1 min read

-मुख्यमंत्री से मिला शोर भूमि से लाभान्वित कृषकों का प्रतिनिधिमंडल
-योगी जी को धन्यवाद देते हुए किसान हुए भावविभोर

गौतमबुद्ध नगर, 25 सितंबर।

महाराज जी मेरी बेटी की शादी नही हो पाती, यदि शोर भूमि पर आप निर्णय नहीं लेते, बरसों पुरानी मेरी भूमि हाथ से निकल गई थी। मुझे रात में नींद भी नहीं आती थी, परंतु अब मैं बहुत खुश हूं, ये शब्द बनवारी प्रजापति निवासी ग्राम रन्हेरा ने मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी से मुलाकात में कहे।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में रविवार को जेवर के किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल विधायक जेवर के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से मिला। मुख्यमंत्री ने सबका परिचय लेते हुए, उनका हाल चाल जाना। बातचीत के दौरान श्री रामप्रसाद नाई भू-धारक रन्हेरा ने भावुक होते हुए कहा कि महाराज में जाति से खटीक हूं, बहुत गरीब हूं। मुझे सन 1978 यानी कि 45 वर्ष पूर्व पट्टा मिला था, जो हमारी रोजी रोटी का एकमात्र जरिया था, परंतु आपके शोर भूमि के निर्णय ने हमारी जिंदगी बदल दी, वरना हमारी बच्चियों की शादी भी नही हो पाती। हम आपका ये उपकार कभी नहीं भूलेंगे।

वहीँ श्री मेघराज जाटव निवासी ग्राम वीरमपुर ने कहा कि “योगी जी आपने हमारे घर में खुशियां लौटा दी, वरना भूखे मरने की नौबत आ गई थी। हमारे बच्चे सदैव आपके अहसानमंद रहेंगे। इसी प्रकार श्री विशंभर खटीक ग्राम मुढरह ने योगी जी के पूछने पर बताया कि “मुझे 9 बीघा का पट्टा मिला था, आपके कारण हमारे बच्चों का भविष्य संवार गया है।“ सभी किसानों ने योगी जी का हृदय से धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री जी ने किसानों के द्वारा दिए गए धन्यवाद पर प्रसन्नता प्रकट करते हुए कहा कि “कम से कम आपने अच्छे कार्य की सराहना की है। वरना लोग अच्छे काम होने पर धन्यवाद भी नही करते।“
आपके बता दें कि एक शासनादेश के माध्यम से शोर भूमि के पटटे करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही और उत्तर प्रदेश के, उन किसानों के मुआवजे तथा दाखिल-ख़ारिज पर रोक लगा दी गयी थी, जिनके पास शोर श्रेणी की भूमि थी। दिनांक 12 अक्टूबर 2022 को नोएडा अंतर्राष्टीय एयरपोर्ट जेवर के द्वितीय चरण के किसानों का एक प्रनिधिमंडल जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में मा0 मुख्यमंत्री जी से लखनऊ में मिला था, जहां जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह द्वारा इस समस्या को उठाया गया था।

जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह ने यह भी बताया था कि “अगर शासन द्वारा शोर भूमि पर निर्णय नही लिया गया तो, प्रदेश के अनेकों कमजोर वर्ग और अनुसूचित जाति के किसान कंगाल हो जाएंगे तथा विकास की बहुत सी योजनाएं आगे नही बढ पाएंगी।“ उस समय प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री जी ने किसानों के साथ वार्ता में उपस्थित प्रदेशस्तरीय अधिकारियों से किसानों के हित में निर्णय लिए जाने के निर्देश दिए थे।

उसी के क्रम में कैबिनेट की मीटिंग में प्रस्ताव लाकर, किसानों के पक्ष में निर्णय लिया गया था तथा दिनांक 03 अगस्त 2023 को शासनादेश के माध्यम से शोर भूमि को सामान्य श्रेणी की भूमि घोषित किया गया, जिसके चलते उत्तर प्रदेश के हजारों किसानों को भूमिधारी अधिकार प्राप्त होने लगे। इसी के चलते मा0 मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद ज्ञापित करने के उददेश्य से जेवर के किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल आज प्रदेश के मुख्यमंत्री जी से मिला।
धीरेन्द्र सिंह ने बताया कि प्रदेश के किसानों के हित में निर्णय लेकर एक बार फिर मुख्यमंत्री जी ने सिद्ध किया है कि उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश के कमजोर वर्ग के साथ खडी है तथा अनेकों ऐसे निर्णय किसानों के पक्ष में लिए गए हैं, जो उनके किसान हितैषी विजन को परिलक्षित करते हैं।“*
किसानों ने जेवर विधायक श्री धीरेन्द्र सिंह की मुख्यमंत्री से तारीफ करते हुए कहा है कि धीरेंद्र सिंह ने ही हमें आपसे मिलवाया है तथा इनके द्वारा ही शोर भूमि पर हमारा पक्ष मजबूती से आपके समक्ष रखा गया और कामयाबी भी मिल गई।
धीरेंद्र सिंह ने किसानों के प्रतिनिधिमंडल की तरफ से एक लिखित धन्यवाद पत्र मुख्यमंत्री जी को दिया। इस प्रतिनिधिमंडल में श्री लयकराम, श्री ओमकार सिंह, नानक चंद जाटव के अलावा, प्रभारी मंत्री श्री बृजेश सिंह, जिलाधिकारी गौतमबुद्ध नगर श्री मनीष कुमार वर्मा, यमुना एक्सप्रेस वे औधोगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अरुणवीर सिंह, ग्रेटर नोएडा औधोगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री रवि कुमार एनजी, भाजपा पश्चिम के अध्यक्ष श्री सतेन्द्र सिंह शिशोदिया भी मौजूद रहे।

 2,566 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.