नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा, 24 फरवरी।

थाना सेक्टर-39 पुलिस ने अन्तर्राज्यीय मादक पदार्थ तस्कर गिरोह के 2 सक्रिय तस्कर गिरफ्तार किये हैं। जिनके कब्जे से 3 किलो 100 ग्राम अवैध गांजा, 960 आईजीईटी स्टार डिस्पोजेबल पॉड डिवाईस डीजाइन्ड इन यूएसए-मेड इन चाईना (ई-सिगरेट) (जिसकी अनुमानित अन्तर्राष्ट्रीय बाजार कीमत लगभग 45-50 लाख रूपये) व 01 स्विफ्ट डिजायर कार बरामद की गई है।

पुलिस के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि  23 फरवरी 2024 को थाना सेक्टर-39 पुलिस द्वारा इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस व मैनुअल इंटेलिजेंस की सहायता से अन्तर्राज्यीय मादक पदार्थ तस्कर गिरोह के 2 सक्रिय तस्कर 1.तसलीम पुत्र नसीम व 2.अहमद रफी पुत्र मौहम्मद रफीक को सेक्टर-41/42 कट के पास से गिरफ्तार किया गया है। अभियुक्तों के कब्जे से 03 किलो 100 ग्राम अवैध गांजा, 960 आईजीईटी स्टार डिस्पोजेबल पॉड डिवाईस डीजाइन्ड इन यूएसए-मेड इन चाईना (ई-सिगरेट) (अनुमानित अन्तर्राष्ट्रीय बाजार कीमत लगभग 45-50 लाख रूपये) व 01 स्विफ्ट डिजायर कार रंग रजिनं0 यूके 06 ए.यू 7817 बरामद किया गया है।

अभियुक्तों ने पुलिस पूछताछ पर बताया कि नेपाल बॉर्डर से चीन में निर्मित ई-सिगरेट को अन्तर्राष्ट्रीय सप्लायर के माध्यम से हम लोग ई-सिगरेट को खरीदते है तथा गांजा को उत्तराखण्ड से खरीद कर लाते है। जिसको हम लोग दिल्ली के रोहिणी में बेचते है तथा बताया कि यह मेड इन चाइना की ब्रांडेंड सिगरेट है, बरामद ई-सिगरेट जिसकी अन्तर्राष्ट्रीय अनुमानित कीमत लभगभ 45-50 लाख रूपये है।

अपराध करने का तरीकाः

अभियुक्त, नेपाल बॉर्डर खटीमा, जिला ऊधम सिंह नगर, उत्तराखण्ड के अन्तर्राष्ट्रीय तस्कर के माध्यम से यूएसए-मेड इन चाईना सिगरेट खरीदते है जिनको दिल्ली-रोहिणी सप्लाई करते है, रोहिणी से बार, रेस्टोरेन्ट, युवा पीढ़ी को नशे के लिए बेचते है। यूएसए-मेड इन चाईना सिगरेट के साथ-साथ गांजा की भी तस्करी कर बेचते है।

क्या है ई-सिगरेटः

ई-सिगरेट एक तरह की इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलीवरी सिस्टम डिवाइस है, इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलीवरी सिस्टम डिवाइस बैटरी से ऑपरेट होने वाले डिवाइस होते हैं, जो शरीर में निकोटिन पहुंचाने का काम करते हैं। इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलीवरी सिस्टम डिवाइस में सबसे ज्यादा डिमांड ई-सिगरेट की रहती है. नॉर्मल सिगरेट की तरह ई-सिगरेट में तंबाकू नहीं भरा होता है और न ही इसे पीने के लिए कहीं से जलाने की जरूरत होती है. बहुत सी ई-सिगरेट्स में से तो पीने पर धुआं भी नहीं निकलता है. इसमें तंबाकू की जगह एक कार्टेज में लिक्विड निकोटिन भरा रहता है। खत्म होने पर कार्टेज को दोबारा से भरा जा सकता है। सिगरेट के दूसरे छोर पर एलईडी बल्ब लगा होता है जो कश लगाने जलता है. ये लिक्विड निकोटिन गर्म होकर भाप बन जाता है. इस तरह ई-सिगरेट पीने वाले लोग धुंए की बजाय भाप खींचते हैं. इसमें मुख्य रूप से एक रिचार्जेबल लिथियम बैटरी होती है, एक निकोटिन कार्टेज और इसके बाद होता है एवोपोरेट चैंबर, जिसमें छोटा हीटर लगा होता है. यह हीटर बैटरी से गर्म होकर निकोटिन को भाप में बदलता है। ई-सिगरेट के नुकसाननिकोटिन का सेवन हार्ट, किडनी और लीवर के लिए खतरनाक है. इसमें कैंसर पैदा करने वाले एजेंट होते है।

अभियुक्तों का विवरणः

1.तसलीम पुत्र नसीम निवासी भूड महौलिया कस्बा व थाना खटीमा जिला उधम सिंह नगर, उत्तराखण्ड भारत उम्र 45 वर्ष।
2.अहमद रफी पुत्र मौहम्मद रफीक निनासी मौहल्ला गौटिया, कस्बा व थाना खटीमा, जिला उधम सिंह नगर, उत्तराखण्ड भारत उम्र-31 वर्ष।

बरामदगी का विवरणः

1. 960 आईजीईटी स्टार डिस्पोजेबल पॉड डिवाईस डीजाइन्ड इन यूएसए-मेड इन चाईना (ई-सिगरेट) (अनुमानित अन्तर्राष्ट्रीय बाजार कीमत लगभग 45-50 लाख रूपये)
2. 03 किलो 100 ग्राम अवैध गांजा
3. 01 स्विफ्ट डिजायर कार रंग रजि नं0यूके 06 ए.यू 7817

पंजीकृत अभियोग का विवरणः

मु0अ0सं0 104/2024 धारा 08/20 एनडीपीएस एक्ट, 1985 व 4 सिगरेट और अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम-2003, थाना सेक्टर-39, गौतमबुद्धनगर।

गिरफ्तार करने वाली टीम का विवरणः

1-उ0नि0 अंकुर चौधरी थाना सेक्टर-39, नोएडा।
2-उ0नि0 राजेन्द्र सिंह थाना सेक्टर-39, नोएडा।
3-उ0नि0 प्रमोद कुमार गर्ग थाना सेक्टर-39, नोएडा।
4-का0 जोगेन्द्र कुमार थाना सेक्टर-39, नोएडा।
5-है0का0 शमशाद थाना सेक्टर-39, नोएडा।
6-का0 अतुल सिंह थाना सेक्टर-39, नोएडा।
7-का0 सचिन बालियान थाना सेक्टर-39, नोएडा

 9,131 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.