नोएडा खबर

खबर सच के साथ

नोएडा खबर डॉट कॉम का सर्वे, प्राधिकरण के बोर्ड में जनता की भागीदारी चाहते हैं 44 प्रतिशत लोग

1 min read

 

-सर्वे में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से 4 हजार लोग हुए शामिल

-44 प्रतिशत लोग चाहते है प्राधिकरण में जनभागीदारी के पक्ष में

-33 प्रतिशत की राय, नगर निगम जैसा सिस्टम बने

-18 प्रतिशत चाहते हैं एनडीएमसी की तरह की व्यवस्था सही

-सिर्फ 5 प्रतिशत ने कहा, मुम्बई की महानगरपालिका बने

नोएडा 12 सितंबर।
Noidakhabar.com ने नोएडा प्राधिकरण में जनता के अधिकारों को लेकर एक सर्वे किया । इस सर्वे में लगभग 4000 लोगों ने प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से हिस्सा लिया, सर्वे के आधार पर जो रिपोर्ट सामने आई वह बड़ी महत्वपूर्ण हैं।
हमने सर्वे में पूछा था कि नोएडा ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी में किस तरह का स्ट्रक्चर बनाया जाए ताकि जनता के लोकतांत्रिक अधिकार मिल सके और जनता के फैसले में उनकी भागीदारी तय हो सके। इसमें हमने जनता के सामने चार विकल्प दिए थे, पहला था, क्या नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी को एनडीएमसी जैसा स्ट्रक्चर दिया जाए ताकि जनप्रतिनिधि उसमें शामिल हो सके। दूसरा विकल्प था क्या नगर निगम बनाया जा सकता है, तीसरा विकल्प था क्या मुंबई की तर्ज पर बीएमसी बनाई जा सकती है और चौथा विकल्प था कि नोएडा ग्रेटर नोएडा और यमुना प्राधिकरण को मिलाकर जनता की भागीदारी इसके बोर्ड में रखी जाए ।जब सर्वे का रिजल्ट आया तो वह चौंकाने वाला था सबसे ज्यादा जो लोग पक्षधर थे वह इस बात के थे कि नोएडा ग्रेटर नोएडा यमुना के बोर्ड में जनता की भागीदारी की जाए और यह प्रतिशत 44 पर्सेंट के आसपास था, जबकि 33% लोग नोएडा ग्रेटर नोएडा यमुना में नगर निगम जैसा पैटर्न चाहते हैं 18 प्रतिशत लोग ऐसे थे जो एनडीएमसी जैसा सिस्टम बनवाना चाहते हैं। मुंबई के बीएमसी जैसे सिस्टम को सिर्फ 5% लोगों ने ही स्वीकार किया इस सर्वे का नतीजा बताता है कि नोएडा , ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण में जनता अपनी भागीदारी चाहती है इसके लिए प्रदेश सरकार को बोर्ड में जनता की भागीदारी तय करनी होगी उसके लिए भले ही एक ऐसा बोर्ड बनाया जाए जिसमें नोएडा ग्रेटर नोएडा यमुना की कुछ लोगों को नामित किया जाए और वह एडवाइजरी बोर्ड नीति तय करें उस नीति के आधार पर सरकार जनता के लिए फैसले करें एडवोकेट नवीन दुबे कहते हैं नगर निगम के सब पैटर्न ही सही होगा प्राधिकरण में जनता की भागीदारी का कोई प्रयोग सफल नहीं होगा योगी हेमंत प्रजापति कहते हैं की जनता की भागीदारी नोएडा ग्रेटर नोएडा यमुना के बोर्ड में होनी चाहिए 2017 में जब विधानसभा के चुनाव हुए थे तब सभी पार्टी के प्रत्याशियों ने नोएडा बोर्ड में जनता की भागीदारी का मुद्दा रखा था इसी तरह की बात ग्रेटर नोएडा यमुना के लिए भी थी अब राज्य सरकार में इस बात पर कशमकश चल रही है कि नोएडा ग्रेटर नोएडा यमुना में नगर निगम बनाया जाए या कोई और पैटर्न अपनाया जाए गौतम बुध नगर के पूर्व जिलाधिकारी बी एन सिंह और नोएडा विधायक पंकज सिंह ने नगर निगम के प्रस्ताव का समर्थन किया है इसे शासन के पास भी भिजवाया है नोएडा प्राधिकरण ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और यमुना प्राधिकरण का मत इनसे भिन्न है।इसी मुद्दे पर जनता भी कशमकश में हैं वह समझ नहीं पा रही है कि जनता को उनके अधिकार कैसे मिले noidakhabar.com का प्रयास है कि चुनाव से पहले यह फैसला होना चाहिए कि यहां कैसा स्ट्रक्चर तैयार हो जो जनता को उसके अधिकार सुनिश्चित करा सकता है। चाहे वह नगर निगम हो या एनडीएमसी जैसा पैटर्न हो। पंचायत की भागीदारी नहीं तो कुछ ना कुछ तो मिलना ही चाहिए आज नोएडा में ऐसा देखने को मिल रहा है कि गांव की जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र ब्लॉक में बन रहे हैं और सेक्टर के जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में बन रहे हैं जबकि नोएडा के गांव का ब्लॉक से अब कोई रिश्ता भी नहीं है जब पंचायतें नहीं है तो ब्लॉक से कनेक्टिविटी कैसे सारे काम नोएडा ग्रेटर नोएडा और यमुना प्राधिकरण को ही करने होंगे जिन गांव की पंचायत समाप्त हुई है उनके सारे प्रशासनिक कार्य प्राधिकरण को ही करने करने होंगे इसका समाधान जरूरी है आपकी क्या राय है यह हमें जरूर बताएं।

 9,268 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.