नोएडा खबर

खबर सच के साथ

दीपावली पर बाजार में उत्साह का माहौल, धनतेरस पर जुटेंगे खरीददार -एस के जैन

1 min read

 

-नोएडा के बाजारों में इस दीपावली उत्सव पर नोएडा मे 1000 से 12 सौ करोड़ के व्यापार की उम्मीद

-भारत की सोने की मांग करोना काल से पूर्व के स्तर पर वापस आकर जुलाई से सितंबर तिमाही में लगभग 50% बढ़कर 140 टन हो गई ।

नोएडा, 30 अक्टूबर।

सुशील कुमार जैन अध्यक्ष सेक्टर 18 मार्केट एसोसिएशन एवं संयोजक कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स दिल्ली एनसीआर ने बताया कि भारत में सोने की मांग वापस COVID-पूर्व स्तर पर आ रही है और आगे चलकर बाजार में खरीदारी के संकेतों से तेजी दिख रही है।

आर्थिक गतिविधियों में जोरदार उछाल और उपभोक्ता मांग में सुधार के बाद जुलाई-सितंबर तिमाही में भारत की सोने की मांग में सालाना आधार पर 50% की बढ़ोतरी हुई है। यह समय स्टॉक खरीदने का होता है और इसकी बिक्री त्योहारों के समय होती है।

धनतेरस कार्तिक माह के 13वें चंद्र दिवस को मनाया जाता है। इस दिन धन्वंतरि की भी पूजा की जाती है स्वास्थ्य के देवता भगवान धन्वंतरि, समुद्र मंथन के दौरान प्रकट हुए, एक हाथ में अमृत से भरा कलश और दूसरे हाथ में चिकित्सा के बारे में पवित्र पाठ पकड़े हुए। उन्हें देवताओं का वैद्य माना जाता है। धनतेरस पर, घरों को अच्छी तरह से साफ किया जाता है और सफेदी की जाती है और शाम को स्वास्थ्य और चिकित्सा के देवता भगवान धन्वंतरि की पूजा की जाती है और मुख्य प्रवेश द्वार को रंगीन लालटेन, रोशनी और रंगोली डिजाइनों के पारंपरिक रूपांकनों को धन और समृद्धि की देवी के स्वागत के लिए बनाया जाता है। इस दिन उनके लंबे समय से प्रतीक्षित आगमन का संकेत देने के लिए जो नई खरीदारी करने के लिए एक अत्यंत शुभ दिन है, विशेष रूप से सोने या चांदी के आभूषण, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, कपड़, नए बर्तन और तरह-तरह की सजावटी सामान एवं गिफ्ट आइटम्स बढ़ चढ़कर खरीदते हैं। ऐसा माना जाता है कि नया “धन” (धन) या कीमती धातु सौभाग्य का संकेत है। धनतेरस की शुभकामनाएं और स्वास्थ्य और धन की कामना का त्यौहार है। इस त्यौहार पर लोग बढ़-चढ़कर खरीदारी करते हैं।

भारत में सोने की मांग 2020 की सितंबर तिमाही के दौरान देश की कुल मांग 100 टन की आस पास रही।
जिसमें कहा गया है कि मूल्य के मामले में, भारत की तीसरी तिमाही में सोने की मांग 37 प्रतिशत बढ़कर 60000 करोड़ रुपये हो गई। एक साल पहले 43000 करोड़ रु.थी।
यह सकारात्मक व्यापार और उपभोक्ताओं की भावनाओं की वापसी के साथ बाजार में बिक्री को बढ़ता दर्शाता है। यह मुख्य रूप से उच्च टीकाकरण दरों और गिरती संक्रमण दर के साथ भारत सरकार की महामारी पर एक मजबूत पकड़ के कारण है। जिससे आर्थिक गतिविधि में भारतीय बाजारों के बिक्री बढ़ाने के मजबूत संकेत है।
सुशील कुमार जैन ने कहा कि नोएडा के बाजारों की बात करें तो नोएडा में भी पिछले सालों के मुकाबले इस बार बिक्री त्योहारों के चलते पूर्व कोविड-19 से भी अधिक होने की संभावना है ‌।
नोएडा में इस बार सोने के आभूषण चांदी के आभूषण सिक्के आदि ग्राहक खूब पसंद कर रहे हैं इस संकेत को देखते हुए ऐसा लगता है कि इस दिवाली पर नोएडा में भी कोरोनावायरस काल के पूर्व स्तर से भी अधिक बिक्री होने के संभावना है।
यदि हम नोएडा के बाजारों की बात करें तव सोना आभूषण में व्यापारियों की 250 करोड़ के आसपास, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स की बिक्री 200 करोड़ के आसपास गारमेंट्स की बिक्री 100 करोड़ के आसपास गिफ्ट आइटम्स आदि की बिक्री 200 करोड़ के आसपास बर्तन आदि की बिक्री 50 करोड़ के आसपास
सजावट के सामानों की बिक्री 50 करोड़ के आसपास एवं फर्नीचर आदि की बिक्री 150 करोड़ के आसपासअन्य सामानों की बिक्री 250 करोड़ के आसपास
कुल मिलाकर 1000 से 1200 करोड के आस पास बिक्री के संकेत हैं।

 6,532 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.