नोएडा खबर

खबर सच के साथ

जानिए एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रोपदी मुर्मू के बारे में

1 min read

नई दिल्ली,

भाजपा की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के बारे में आप भी जरूर जानना चाहेंगे कि आखिर उन्हें राष्ट्रपति पद के लिए प्रत्याशी क्यों चुना गया, वह कौन है और किस राज्य से हैं। पढिये उनके जीवन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी ।

दो बेटों और पति को खोने के बाद भी हिम्मत नही हारी

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा में हुआ था. वह दिवंगत बिरंची नारायण टुडू की बेटी हैं. मुर्मू की शादी श्याम चरम मुर्मू से हुई थी। उनके तीन संतानों में दो बेटों और पति की मृत्यु हो चुकी है। एक बेटी है।

आदिवासी संथाल परिवार से है मुर्मू

द्रौपदी मुर्मू ओडिशा में मयूरभंज जिले के कुसुमी ब्लॉक के उपरबेड़ा गांव के एक संथाल आदिवासी परिवार से आती हैं।
उन्होंने 1997 में अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की और तब से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. द्रौपदी मुर्मू 1997 में ओडिशा के राजरंगपुर जिले में पार्षद चुनी गईं।
1997 में ही मुर्मू बीजेपी की ओडिशा ईकाई की अनुसूचित जनजाति मोर्चा की उपाध्यक्ष भी बनी थीं।

सिंचाई विभाग में जूनियर असिस्टेंट रह चुकी है मुर्मू
मुर्मू राजनीति में आने से पहले श्री अरविंदो इंटीग्रल एजुकेशन एंड रिसर्च, रायरंगपुर में मानद सहायक शिक्षक और सिंचाई विभाग में कनिष्ठ सहायक के रूप में काम कर चुकी थीं।

बीजेपी की जड़ों को उड़ीसा में मजबूत किया
द्रौपदी मुर्मू ने 2002 से 2009 तक और फिर 2013 में मयूरभंज के भाजपा जिलाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया।
द्रौपदी मुर्मू ओडिशा में दो बार की बीजेपी विधायक रह चुकी हैं और वह नवीन पटनायक सरकार में कैबिनेट मंत्री भी थीं. उस समय बीजू जनता दल और बीजेपी के गठबंधन की सरकार ओडिशा में चल रही थी।
ओडिशा विधान सभा ने द्रौपदी मुर्मू को सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए नीलकंठ पुरस्कार से उन्हें सम्मानित किया। द्रौपदी मुर्मू ने ओडिशा में भाजपा की मयूरभंज जिला इकाई का नेतृत्व किया था और ओडिशा विधानसभा में रायरंगपुर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था।

उड़ीसा से पहली राज्यपाल बनी
वह झारखंड की पहली महिला राज्यपाल भी रह चुकी हैं. झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश वीरेंद्र सिंह ने मुर्मू को शपथ दिलाई थी। वह उड़ीसा की पहली महिला है जिसे राज्यपाल बनाया गया है। वह 2015 से 2021 तक झारखंड की राज्यपाल रही।

संघर्षों से जूझकर राष्ट्रपति भवन में दस्तक दे रही है

द्रौपदी मुर्मू ने जीवन में आई हर बाधा का मुकाबला किया. पति और दो बेटों को खोने के बाद भी उनका संकल्प और मजबूत हुआ है।
द्रौपदी मुर्मू को आदिवासी समुदाय के उत्थान के लिए काम करने का 20 वर्षों का अनुभव है और वे भाजपा के लिए बड़ा आदिवासी चेहरा हैं।

 5,579 total views,  2 views today

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published.

साहित्य-संस्कृति

चर्चित खबरें

You may have missed

Copyright © Noidakhabar.com | All Rights Reserved. | Design by Brain Code Infotech.